यूपी में पहले चरण के मतदान के लिए बुधवार शाम 5 बजे चुनाव प्रचार का शोर थम गया । इससे पहले सत्ता दल बीजेपी से लेकर समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी समेत तमाम राजनीतिक दलों ने प्रचार में अपना पूरा दमखम झोंक दिया । सभी ने जनता को लुभाने के लिए अपने अपने दांव चले और वादे और इरादों का बखान किया । 10 फरवरी को पहले चरण में 11 ज़िलों की 58 विधनसभा सीटों पर वोटिंग होनी है।

पहले चरण में किन ज़िलों में हैं मतदान

उत्तरप्रदेश में पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 58 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा ।ये सीटें आगरा, अलीगढ़, बागपत, बुलंदशहर, गौतम बौद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, मथुरा, मेरठ, मुजफ्फरनगर और शामली जिलों के अंतर्गत आती हैं । बता दें कि उत्तप्रदेश में कुल सात चरणों में मतदान होना है और नतीजे 10 मार्च को वोटों की गिनती के बाद घोषित किए जाएंगे ।

पहले चरण में कितने पढ़े-लिखे हैं प्रत्याशी?

पहले चरण के उम्मीदवारों में से 125 8th तक पढ़े हैं, जबकि 15 ने खुद को निरक्षर बताया है । एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) के अनुसार चुनाव में 70 से अधिक प्रत्यशियों की उम्र 60 साल से ज्यादा है । ADR ने कहा कि उसने उत्तर प्रदेश के 11 जिलों में 58 विधानसभा सीटों से राजनीतिक दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों के 615 उम्मीदवारों के हलफनामों का विश्लेषण किया है ।

एडीआर के अनुसार, 15 उम्मीदवार ‘निरक्षर’ हैं, 38 ‘साक्षर’ हैं, 10 उम्मीदवारों ने पांचवी कक्षा तक पढ़ाई की है, 62 कक्षा 8 तक पढ़े हैं, 65 ने कक्षा 10 और 102 ने कक्षा 12 तक पढ़ाई की है । इसके अलावा 100 ‘ग्रैजुएट’ प्रत्याशी हैं, 78 ‘स्नातक पेशेवर’, 108 ‘पोस्ट ग्रैजुएट’, 18 ‘डॉक्टरेट’ और सात ‘डिप्लोमा’ धारक हैं, जबकि 12 ने अपनी शिक्षा का विवरण नहीं दिया है ।

इसमें कहा गया है कि 239 प्रत्यशियों (39 प्रतिशत) ने अपनी शैक्षणिक योग्यता 5th और 12वीं के बीच घोषित की है, जबकि 304 उम्मीदवारों (49 प्रतिशत) ने स्नातक या उससे ऊपर की शैक्षणिक योग्यता घोषित की है । उम्र के संदर्भ में, 214 उम्मीदवारों (35 प्रतिशत) ने अपनी आयु 25 से 40 वर्ष के बीच घोषित की है और 328 उम्मीदवारों (53 प्रतिशत) ने इसे 41 से 60 साल के बीच बताया है । इसमें कहा गया है कि 73 उम्मीदवारों (12 प्रतिशत) ने अपनी आयु 61 से 80 साल के बीच बताई है ।