मशहूर हिंदी और मराठी फ़िल्म जगत के दिग्गज एक्टर-निर्देशक महेश मांजरेकर एक बड़े कानूनी विवाद में फँसते हुए नज़र आ रहे है। अपनी आने वाली मराठी फिल्म के कुछ आपत्तिजनक दृश्यों में बच्चों का उपयोग किये जाने को लेकर महेश मांज़रेकर के खिलाफ मुंबई की एक कोर्ट में POCSO एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज करवाया गया है।कोर्ट ने इस मामले की जांच के निर्देश मुंबई की माहिम पुलिस को दिये हैं।

NIA की एक खबर की माने तो , महेश मांजरेकर पर सेक्शन 34,292 , पोक्सो एक्ट के तहत सेक्शन 14 , आईटी एक्ट के तहत सेक्शन 67 और 67बी में मामला दर्ज किया गया है। आपको बता दें की महेश मांजरेकर द्वारा निर्देशित मराठी फिल्म जिसका नाम “ नाय वरण भाट लोंचा कोन नाय कोंचा“ पिछले महीने 14 जनवरी को रिलीज हुई थी। फिल्म के कुछ अश्लील दृश्यों को लेकर खूब हंगामा मचा था जिसके बाद मुंबई की कोर्ट्स में इस फ़िल्म के निर्मताओ के खिलाफ काफ़ी शिकायतें और याचिका दायर हुई थी ।

एक शिकायत जो की क्षत्रिय मराठा सेवा संस्था की ओर से मुंबई की बांद्रा मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट में दायर है । इसमें महेश के ख़िलाफ़ , भारतीय दंड संहिता की धारा 295, 292,और 34 के तहत मामला दर्ज करवाया गया था। जिसमें शिकायतकर्ता वकील डीवी सरोज द्वारा दावा किया था कि इस मराठी फिल्म के कंटेंट से समाज में द्वेष फैला सकता है। वही दूसरी शिकायत पोक्सो ऐक्ट के तहत मुंबई की सेशंस कोर्ट में दर्ज करवायी गयी थी। इस दायर याचिका में महेश मांजरेकर और फ़िल्म मेकर्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने की सख़्त मांग की गयी थी।

वही इसके अलावा भी फिल्म निर्माता महेश मांजरेकर के खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में भी एक जनहित याचिका दायर की गई है ।अपनी इस मराठी फ़ीचर फिल्म में नाबालिग बच्चों पे अश्लील दृश्य फ़िल्माने के आरोप में अभिनेता और निर्देशक महेश मांजरेकर की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही है ।