नई दिल्ली: भारत सरकार के दवा नियामक DCGI ने दो वैक्सीन को सशर्त बाजार में बेचने की अनुमति दे दी है।भारतीय औषधि महानियंत्रक (DCGI) ने कोविड-19 रोधी वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन को वयस्क आबादी के लिए कुछ शर्तों के साथ नियमित रूप से बिक्री की अनुमति दे दी है।

बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के निदेशक (सरकार और नियामक मामले) प्रकाश कुमार सिंह ने 25 अक्टूबर को भारत के औषधि महानियंत्रक को एक आवेदन जमा किया था, जिसमें कोविशील्ड टीके को बाजार में उतारने की मंजूरी मांगी गई थी। प्राइवेट अस्पतालों और क्लिनिक ही टीके खरीद सकेंगे तथा वहीं लगाई जाएगी। आधिकारिक सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। कोविशील्‍ड और कोवैक्‍सीन को हॉस्पिटल या क्‍लीनिक से खरीदा जा सकेगा। DCGI अस्‍पताल और क्‍लीनिकों से हर छह महीने में वैक्‍सीन की बिक्री और अन्‍य डाटा मांगेगा। इस डेटा को CoWIN APP पर अपलोड भी किया जाएगा।

हालांकि कोवैक्‍सीन और कोविशील्‍ड की रेगुलर मार्केट में कितनी कीमत होगी, इस बारे में अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है। इकनॉमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, रेगुलर मार्केट में वैक्‍सीन की कीमत को लेकर हेल्‍थ मिनिस्‍ट्री की मीटिंग से इस बारे में कुछ जानकारी निकलकर सामने आई है लेकिन निर्धारित शर्तों के मुताबिक, ये दोनों ही वैक्सीन दुकानों पर नहीं मिलेंगी। प्राइवेट अस्पताल और क्लिनिक ही इन्हें खरीद सकेंगे और ये वहीं लगाई जाएगी। इन दोनों ही टीकों की कीमत प्रति खुराक 275 रुपये और अतिरिक्त सेवा शुल्क 150 रुपये तक हो सकती है।

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में ‘संजीवनी’ साबित हो चुके कोविशील्ड और कोवैक्सीन को लेकर अच्छी खबर है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने गुरुवार को कोविशील्ड और कोवैक्सीन को बाजार में उतारने की सशर्त मंजूरी दे दी है। लेकिन वैक्सीन लगाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि सरकार का नि:शुल्क टीकाकरण अभियान जारी रहेगा।

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति ने 19 जनवरी को कुछ शर्तों के साथ वयस्क आबादी के बीच उपयोग के लिए कोविड रोधी टीकों कोविशील्ड और कोवैक्सीन को नियमित रूप से बाजार में उतारने की मंजूरी देने की सिफारिश की थी।