Delhi Nursery Admissions: दिल्ली के निजी स्कूलों ने सोमवार को नर्सरी, केजी और क्लास-1 में दाखिले के लिए दूसरी लिस्ट जारी कर दी। पहली सूची 4 फरवरी को जारी की गई थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शिक्षा निदेशालय (डीओई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दूसरी सूची में जिन छात्रों को शॉर्टलिस्ट किया गया है, उन्हें 22 से 28 फरवरी के बीच प्रवेश लेना है।

15 मार्च को चारी होगी अगली लिस्‍ट
उन्होंने कहा कि सभी निजी गैर सहायता प्राप्त मान्यता प्राप्त स्कूलों को निर्देश दिया गया है कि वे प्रवेश के लिए मानदंड विकसित करें और अपनाएं जो निष्पक्ष, उचित, अच्छी तरह से परिभाषित, न्यायसंगत, गैर-भेदभावपूर्ण, स्पष्ट और पारदर्शी हो। अधिकारी ने कहा कि प्रवेश के लिए अगली सूची, यदि कोई हो, 15 मार्च को जारी की जाएगी और पूरी प्रवेश प्रक्रिया 31 मार्च को समाप्त होगी।

यह भी देखें:- CM योगी के निशाने पर अखिलेश- उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के समय 700 से अधिक दंगे हुए

15 दिसंबर से शुरू हुआ था प्रोसेस
दिल्ली के 1800 से अधिक स्कूलों में नर्सरी दाखिले की प्रक्रिया पिछले साल 15 दिसंबर से शुरू हुई थी। DoE ने यह भी निर्देश दिया है कि प्रवेश स्तर पर सीटों की संख्या पिछले तीन शैक्षणिक वर्षों – 2019-20, 2020-21 और 2021-22 के दौरान प्रवेश स्तर की कक्षाओं में सबसे अधिक सीटों से कम नहीं होगी।

यह भी देखें:- सोनू सूद की बड़ सकती है मुश्किलें , पंजाब के मोगा में उनके ख़िलाफ़ केस दर्ज

25 फीसदी सीटें आरक्षित
मानदंडों के अनुसार, सभी निजी गैर-मान्यता प्राप्त मान्यता प्राप्त स्कूल प्री-स्कूल, प्री-प्राइमरी और कक्षा- I स्तर में बच्चों को ईडब्ल्यूएस या डीजी श्रेणी के छात्रों और विकलांग बच्चों के लिए 25 फीसदी सीटें आरक्षित करेंगे। इससे पहले स्‍कूलों पर आरोप लगते रहे हैं कि गरीब बच्‍चों को एडमि‍शन नहीं दिया जाता है। जबकि स्‍कूलों में 25 फीसदी आरक्षण गरीब के लिए तय है। कई श‍िकायतों के बाद सरकार ने कार्रवाई करनी शुरू की और एडमिशन प्रोसेस में पारदर्शिता लाने का प्रयास किया गया, ताकि प्राइवेट स्‍कूलों  गरीब बच्‍चों का एडमिशन हो सके।