रविवार को दिग्गज गायक लता मंगेशकर जी का निधन हो गया. जिसके बाद पूरी दुनिया ने शोक जताया. कई बड़े-बड़े बॉलीवुड एक्टर, नेता, राजनेता और प्रधानमंत्री मोदी ने लता मंगेशकर जी को श्रद्धांजलि दी.

Read also:newz24india.com/many-big-films-are-ready-to-be-released-simultaneously-badhaai-do-be-a-big-release

इसके साथ ही कई पाकिस्तानी संगीत प्रेमियों, प्रधानमंत्री इमरान खान और अन्य राजनेताओं के बाद पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर ने मशहूर स्वर कोकिला को श्रद्धांजलि दी है, और शोक प्रकट किया. पाकिस्तान के इस पूर्व तेज गेंदबाज ने अपने यूट्यूब अकाउंट पर एक वीडियो साझा कर लता मंगेशकर जी के निधन का दुख जताया है.

Read also:newz24india.com/rahul-roy-birthday-why-did-you-distance-yourself-from-bollywood-after-becoming-a-superstar

शोएब ने कहा कि उन्हें पछतावा है कि वह उनसे कभी नहीं मिल पाए. शोएब ने उस दिन को याद किया जब उन्होंने साल 2016 में अपनी भारत यात्रा में दिग्गज गायिका लता जी से बात की थी. शोएब अख्तर, जिन्हें ‘रावलपिंडी एक्सप्रेस’ के नाम से भी जाना जाता है. उन्होंने बताया कि लता जी ने जोर देकर कहा कि वह उन्हें मां कहते हैं और बताया कि मैंने उन्हें वहां से मा जी के रूप में संबोधित किया.

Read also:newz24india.com/weather-deteriorated-due-to-some-hailstorm-with-rain-in-the-countrys-capital-delhi

वीडियो में इस वाक्य को याद करते हुए शोएब ने कहा कि ‘साल 2016 में जब मैं भारत में काम कर रहा था. तो मुझे उनसे फोन पर बात करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. मैंने उनका धन्यवाद किया. और उन्होंने अपनी सुरीली आवाज में मुझे जवाब दिया. मैंने उसे कहा कि मैं मिलना चाहता हूं. उस समय उनका नवरात्रि व्रत चल रहे थे, जिसके बाद उन्होंने मुझे अपने स्थान पर आने के लिए कहा. मैंने सोचा था कि मैं उनसे मिलूंगा. लेकिन फिर अलविदा कहने का समय आ गया और उन्होंने मुझे अपना आशीर्वाद दिया. उसके बाद भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध बिगड़ गए और मैं कभी भारत वापस नहीं आ सका. मैं उनसे कभी नहीं मिला जिसका मुझे हमेशा पछतावा रहेगा.

see thisyoutube.com/watch

इसके अलावा आपको बता दें कि सचिन तेंदुलकर को भी दिग्गज गायिका लता जी के निधन का बहुत दुख हुआ है. क्योंकि सचिन तेंदुलकर भी मशहूर दिग्गज गायिका लता जी को ‘मां’ बुलाते थे. स्वर कोकिला लता मंगेशकर सचिन तेंदुलकर को काफी पसंद करती थी. वह सचिन के एक भी मैच को ड्रॉ नहीं करती थी. भले ही उन्हें क्रिकेट की बारीकियों के बारे में ज्यादा समझ नहीं थी. इसके बावजूद वह अपने परिवार के साथ सचिन के हर मैच को बड़े ही ध्यान और इंजॉय करते हुए देखती थी. यहां तक कि जितने दिन सचिन का मैच चलता था, इतने दिन लता जी गाना तक नहीं गाती थी.