गूगल ने आज जापानी वायरोलॉजिस्ट डॉ मिचियाकी ताकाहाशी को उनके 94वीं जयंती पर डूडल बनाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। दरअसल गूगल को हमेशा से ही नए नए और क्रिएटिव डूडल बनाने के लिए जाना जाता है। हाल ही में गूगल ने वैलेंटाइन के मौके पर प्यारा सा थ्री डी डूडल बना कर सबका दिल जीत लिया था।

आपको बतादें कि गूगल ने आखिर क्यों डॉ मिचियाकी ताकाहाशी का डूडल बना कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है। दरअसल मिचियाकी को चिकन पॉक्स का पहला टीका विकसित करने के लिए जाना जाता है। उनके इस आविष्कार ने दुनिया से चेचक जैसी बीमारियों से हमें राहत दिलाई। आज दुनिया भर के लोग उनके इस योगदान के लिए आभार व्यक्त कर रहे हैं। एक और खास बात कि इस गूगल डूडल को जापान स्थित गेस्ट आर्टिस्ट तात्सुरो किउची ने चित्रित किया है।

बेटे के बीमारी को दूर करने के लिए बना डाला टीका
डॉ मिचियाकी ताकाहाशी का जन्म आज ही के दिन 1928 में जापान के ओसाका में हुआ था। उन्होंने ओसाका विश्वविद्यालय से मेडिकल डिग्री हासिल की और फिर 1959 में रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर माइक्रोबियल डिसीज से जुड़ गए। पोलियो जैसे वायरस का अध्ययन करने के बाद साल 1963 में उन्होंने अमेरिका के बायलर कॉलेज में एक शोध फेलोशिप स्वीकार कर ली। इस दौरान डॉ मिचियाकी के बेटे को भी चिकन पॉक्स हो गया, जिससे ताकाहाशी को इस बीमारी का इलाज खोजने में काफी मदद मिली।

डॉ ताकाहाशी साल 1965 में जापान वापस लौट आए। यहां उन्होंने चिकन पॉक्स का टीका बनाने के लिए अपनी तैयारी शुरू कर दी और 1974 में वैरिकाला वायरस को लक्षित करने वाला पहला टीका विकसित कर लिया था। डॉ मिचियाकी ताकाहाशी द्वारा विकसित इस टीके को 80 से अधिक देशों में उपयोग किया गया। तब से लेकर अब तक दुनियाभर के लाखों बच्चों को यह टीका लगाया जा चुका है।