झारखंड: झारखंड में नक्सलवादियों का बड़ा आतंक देखने को मिला है। झारखंड के गिरिडीह जिले में नक्सलवादियों ने फिर से उत्पात मचाया है। बता दें कि नक्सली कमांडर प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में प्रतिरोध दिवस मना रहे उग्रवादियों ने शुक्रवार देर रात दो मोबाइल टॉवर उड़ा दिए थे। नक्सलियों की इस कार्रवाई से मोबाइल कंपनियों को करोड़ों के नुकसान की आशंका है। खुखरा थाना क्षेत्र में हुई इस घटना की पुलिस जांच कर रही है।

यहां उन्होंने धमाका करके एक पुल और मोबाइल टावर को उड़ा दिया है। घटना को रात के वक्त अंजाम दिया गया। जानकारी के मुताबिक, ये पुल सदर प्रखंड के अंतर्गत सिंदवरिया पंचायत में बराकर नदी पर बना हुआ था। वहीं पुल को डेटोनेटर लगाकर उड़ाया गया है।

बताया जा रहा है कि धमाके के बाद पुल का एक हिस्सा पूरी तरह क्षतिग्रस्त होकर गिर गया। जिसके कारण वहां से लोगों को आने-जाने में दिक्कत आ रही है। आतंक का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि नक्सलियों के हौसले इतने बढ़ गए हैं, कि वह घटनास्थल से जाने से पहले एक पर्ची भी छोड़कर गए जिसमें कुछ लिखा था। नक्सलियों का कहना है कि गिरफ्तार किए गए प्रशांत बोस और उनकी पत्नी को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं करायी जा रही हैं। वे दोनों को राजनीतिक बंदी का दर्जा देने की मांग कर रहे हैं।

वहीं खुफिया विभाग ने पहले ही दोनों राज्यों की पुलिस को अलर्ट करते हुए कहा है कि, नक्सली सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा सकते हैं और पुलिस एवं सुरक्षा बलों पर हमले की कोशिश कर सकते हैं। पुलिस के अनुसार, नक्सलियों ने मधुबन थाना के जयनगर में आइडिया और खुखरा ओपी के जमुआ टांड़ में एयरटेल का टावर उड़ाया है। बताया जा रहा है कि दोनों गांवों में 50 की संख्या में हथियारबंद माओवादी पहुंचे और विस्फोटक लगाकर टावर उड़ा दिए।