राज्यदिल्ली

Kisan Andolan: किसानों की हिंसा को रोकने के लिए दिल्ली से सटे बॉर्डर पर 7 लेयर की सुरक्षा, Drone से भी निगरानी

Kisan Andolan News

Kisan Andolan News: सिंघु-गाजीपुर-टिकरी-चिल्ला सीमा पर लगभग 18 हजार पुलिसकर्मी तैनात हैं। रैपिड एक्शन फोर्स, सीआईएसएफ और बीएसएफ के जवान भी इनमें तैनात हैं।

किसानों के ‘दिल्ली चलो’ विरोध प्रदर्शन के कारण मंगलवार (13 फरवरी) को राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर कड़ी सुरक्षा दी गई है। Delhi Police ने कानून और व्यवस्था को बनाए रखने के लिए धारा 144 लागू की है, जो बड़ी सभाओं और ट्रैक्टर ट्रॉलियों पर प्रतिबंध लगाती है।

Kisan Andolan: सुरक्षा बलों को किसानों के दिल्ली कूच (Delhi Chalo March) को लेकर कड़े निर्देश दिए गए हैं। दिल्ली में ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ किसानों को किसी भी सूरत में प्रवेश पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। सिंघु-गाजीपुर-टिकरी-चिल्ला सीमा पर लगभग 18 हजार सुरक्षाकर्मी तैनात हैं। हर बॉर्डर पर लगभग सात लेयर की कड़ी सुरक्षा है।

बॉर्डर पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

Kisan Andolan: दिल्ली पुलिस के अलावा रैपिड एक्शन फ़ोर्स, सीआईएसएफ और बीएसएफ के जवान भी तैनात हैं। सुरक्षाबलों को सिर्फ आंसू गैस के गोले, लाठी और शरीर की सुरक्षा किट दी गई हैं। बॉर्डर पर फ्रंट लेयर में अधिक महिला सैनिक हैं। ड्रोन आसपास की जगहों पर भी निगरानी कर रहा है। इस बार, पिछली बार से सबक लेने वाले जवानों को एंटी टियर गैस मास्क दिए गए हैं। पिछली बार किसानों ने पुलिस पर आंसू गैस के गोले वापस फेंका था। बोर्ड पर सूचना देने के लिए लाउड स्पीकर और सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। पुलिस ने बॉर्डर के आसपास स्थानीय गुप्तचर बल को सक्रिय किया है।

दिल्ली-एनसीआर में जाम की स्थिति

Kisan Andolan: फिलहाल किसान ट्रैक्टर और ट्रॉली से दिल्ली जा रहे हैं। किसान एमएसपी गारंटी सहित कई आवश्यकताओं पर अड़े हुए हैं। दिल्ली, नोएडा और गुरुग्राम में कई स्थानों पर लंबे जाम लगे हैं। प्रदर्शनकारी किसानों का कहना है कि सरकार ने सड़क नहीं रोकी है। किसान नेताओं ने कहा कि हम संघर्ष नहीं चाहते हैं। हम शांत हैं। हमारी मांगों पर सरकार गंभीर नहीं है। हम अन्न उगाते हैं और सरकार ने कीलें बिछाई हैं। हम पूरी तरह से लाठी और गोली खाने के लिए तैयार हैं।

Delhi Traffic Jam: किसानों को राजधानी जाने से रोकने के लिए गुरुग्राम-दिल्ली बॉर्डर पर भीषण जाम

किसानों की मांगें क्या हैं?

प्रदर्शनकारी किसान केंद्र पर अपनी मांगों को पूरा करने का पूरा प्रयास कर रहे हैं। इनकी मांगों में सबसे महत्वपूर्ण कानून बनाना है जो फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देगा। इसके अलावा, वे बिजली अधिनियम 2020 को हटाने की मांग कर रहे हैं, लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों के लिए मुआवजे देने की मांग कर रहे हैं और किसान आंदोलन में शामिल लोगों के खिलाफ मामलों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि सरकार ने दो साल पहले किए गए वादे नहीं पूरे किए हैं।

फेसबुक और ट्विटर पर हमसे जुड़ें और अपडेट प्राप्त करें:

facebook-https://www.facebook.com/newz24india

Related Articles

Back to top button
Share This
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज