रूस और यूक्रेन के बीच चल रही गमा साजन के बीच गूगल ने यूक्रेन के मदद के लिए एक नया रास्ता निकाला, उसने यूक्रेन में कुछ गूगल मैप्स टूल्स को अस्थाई रूप से डिसएबल कर दिया। इसके जरिए रूस को यूक्रेन के लाइव ट्रैफिक की स्थिति और विभिन्न स्थानों पर कितनी भीड़ हो सकती है यह जानने में मदद मिल रही थी।
यह जानकारी अल्फाबेट इन्क कि कंपनी गूगल ने दी और इससे पहले एक गूगल ने रूस के सरकारी मीडिया इंस्टीट्यूशंस को अपने प्लेटफार्म पर कमाई करने से भी रोक दिया है।
गूगल का कहना है कि उसने क्षेत्रीय अधिकारियों सहित सोर्सेज से हर तरीके के सलाह मशवरा करने के बाद देश में स्थानीय लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखा और यह कार्रवाई की। वही यूक्रेन पर रूस की सेना द्वारा लगातार हमला किया जा रहा है जिसमें सबसे ज्यादा नुकसान नागरिकों को हो रहा है। शहरों तक गिर रही बड़ी मिसाइल है सड़कों पर दौड़ते हुए टैंक और भीषण गोलाबारी की चपेट में आने की वजह से यूक्रेन में सैकड़ों लोग अपनी जान गंवा रहे हैं रिपोर्ट की मानें तो चार लाख से ज्यादा यूक्रेन के नागरिक अपने पड़ोसी देशों में शरण ले चुके हैं और यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है क्योंकि यूक्रेन के लोग अपनी जान बचाने के लिए लगातार बॉर्डर की तरफ भाग रहे हैं।
कैलिफ़ोर्निया के मिडिलबरी इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के प्रोफेसर द्वारा यह बात कही गई कि रूसी राष्ट्रपति के हमले की घोषणा करने से पहले गूगल मैप्स में उन्हें ट्रैफिक जाम को ट्रैक करने में मदद मिली थी और लोगों को बॉर्डर की ओर रुख करने की वजह से यूक्रेन में काफी लंबे समय से ट्रैफिक जाम देखने को मिला था वही गूगल ने आगे कहा कि ड्राइवर्स के लिए लाइव ट्रेफिक इनफॉरमेशन किशोर दा अभी भी उपलब्ध है जिसे वेतन 52 फीचर्स के जरिए उपयोग में ला सकते हैं।