IPL की मेगा नीलामी में खिलाड़ियों पर करोड़ों की बोली को देखते हुए बीस लाख का अनुबंध भले ही बहुत बड़ी बात नहीं लगे, लेकिन टेनिस गेंद के क्रिकेट में नाम कमाने वाले रमेश कुमार के लिए यह राशि काफी मायने रखती है। रमेश ने इस राशि के साथ सुनिश्चित किया कि उनके पिता को अब आजीविका कमाने के लिए मोची का काम नहीं करना होगा और ना ही उनकी मां को punjab के फाजिल्का जिले में चूड़ियां बेचने के लिए एक गांव से दूसरे गांव में घूमना पड़ेगा।
टेनिस गेंद के cricket में ‘नारायण जलालाबाद’ के नाम से मशहूर रमेश गेंद और बल्ले से अपने खेल से पहले ही youtube पर स्टार हैं। पिछले सप्ताहांत नीलामी में कोलकाता नाइटराइडर्स के साथ अनुबंध के बाद उनकी कहानी अधिक लोगों के पास पहुंची है। रमेश ने इससे पहले भी कई बार अपने उम्रदराज माता-पिता को काम बंद करने को कहा, लेकिन उन्होंने कभी उनकी बात नहीं सुनी। IPL करार मिलने के बाद वे मान गए कि उनके बेटे का खेल में भविष्य है और उन्हें गली-गली भटकने की जरूरत नहीं है। स्थानीय टूर्नामेंट में एक बार दस गेंदों में अर्धशतक जड़ने वाले रमेश ने कहा, ‘वे अब काम नहीं करने के लिए राजी हो गए। मैं कभी नहीं चाहता था कि वे ये काम करें, लेकिन मजबूरी में यह काम करना पड़ा।’

रमेश आइपीएल से मिलने वाले पैसों का इस्तेमाल अपने छोटे भाइयों की शिक्षा के लिए भी करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘अब तक जीवन नहीं बदला है। जीवन तब बदलेगा जब मैं आइपीएल में प्रदर्शन करूंगा। मैं इसे इस तरह देखता हूं कि मुझे वह मंच मिल गया जिसकी मुझे जरूरत थी।’ जलालाबाद के 23 साल के रमेश ने सात साल तक देश के टेनिस गेंद टूर्नामेंट में अपना जौहर दिखाया, लेकिन पिछले साल ही उन्होंने ‘लैदर गेंद’ से खेलना शुरू किया। रमेश ने पंजाब क्रिकेट संघ के जिला स्तर के टूर्नामेंट में प्रभावित किया जिसके बाद उन्हें रणजी ट्राफी शिविर के लिए बुलाया गया।