चंडीगढ़(एएनआई): पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधन के बीच बंटवारा हो गया है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने जानकारी देते हुए कहा कि भाजपा 65 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, पंजाब लोक कांग्रेस प्रमुख 37 सीटों पर और वहीं शिअद-संयुक्त प्रमुख 15 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि गठबंधन में भाजपा पंजाब लोक कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) शामिल हैं।

60 फीसदी सिख प्रत्याशी होंगे

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी 34 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर चुकी है जिनमें 13 किसान समुदाय से और एससी समुदाय से नौ उम्मीदवार हैं। बीजेपी ने दावा किया है कि पंजाब विधानसभा चुनाव में जितनी सीट पर चुनाव लड़ेगी, उनमें से आधे से अधिक सीट पर सिख उम्मीदवारों को उतारेगी,जिनमें ज्यादातर किसान और ओबीसी तथा अनुसूचित जाति (एससी) समुदायों से होंगे बीजेपी ने कहा कि 117 सदस्यीय विधानसभा के लिए 20 फरवरी को होने जा रहे चुनाव में पार्टी के ज्यादातर उम्मीदवार सिख समुदाय से, खासतौर पर किसान और अन्य पिछड़ा वर्ग से होंगे

भाजपा गठबंधन में वरिष्ठ साझेदार की भूमिका निभाएगी।पंजाब चुनाव के लिए त्रिकोणीय गठबंधन (भाजपा, पंजाब लोक कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल संयुक्त)।भारतीय जनता पार्टी ने ही 33 से 35 सिख चेहरों को उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है। पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की पंजाब लोक कांग्रेस और सुखदेव सिंह ढींडसा की शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के साथ चुनाव लड़ रही है।

चुनाव में भाजपा की संभावनाओं के बारे में चुघ ने शनिवार को कहा था कि पार्टी अपने शानदार प्रदर्शन से सबको चौंका देगी। यह पूछे जाने पर कि क्या भाजपा या गठबंधन किसी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाएगा? चुघ ने कहा, ‘‘सभी विकल्प खुले हैं।’’ कांग्रेस के पंजाब प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए चुघ ने कहा, ‘‘पंजाब, विभाजन से सर्वाधिक प्रभावित हुआ और आज की तारीख तक पाकिस्तान के चलते। इसलिए, यह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के उन दोस्तों को खारिज कर देगा जो उन्हें शांति का दूत बताते हैं।’’