Remal Cyclone:

Remal Cyclone: इन दिनों, अगर कोई तूफान आता है तो उसके साथ भारी बारिश भी आती है,जिसके वजह से कई बार पूरा का पूरा शहर तक इसमें डूब जाता है|

  • जिस जगह से Remal Cyclone निकला, वहां भारी बारिश हुई
  • तूफान की बारिश से सैकड़ों गांव और क्षेत्र जलमग्न हो गए।
  • आखिर क्यों तूफान के साथ तेज हवाएं और मूसलाधार बारिश होती हैं?

Remal Cyclone ने बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल को बर्बाद कर दिया। बांग्लादेश से बंगाल तक भारी बारिश हो रही है। तटीय क्षेत्र जलमग्न हो गए हैं। पानी सड़कों पर है। क्षेत्र को देखकर लगता है कि यहाँ एक नदी बह रही है। Remal Cyclone की स्पीड 135 km/h थी जब यह बांग्लादेश के तटीय क्षेत्र में टकराया। वह जहां से निकला वहां तेज हवाओं के साथ भारी बारिश भी हुई। क्या आपने कभी सोचा है कि एक तूफान इतना पानी कैसे लाता है?

Remal Cyclone के आने से पहले ही बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों से घरों को खाली कर दिया गया था। दस लाख लोगों को वहाँ से निकाला गया था, लेकिन इसके बाद भी बड़ा नुकसान हुआ है। सैकड़ों पेड़ गिर पड़े। ‘Remal Cyclone’ से कम से कम सात लोग मर गए। सैकड़ों गांव पानी में बह गए।

अब तूफान कमजोर हो गया है और सिर्फ बांग्लादेश की ओर बढ़ रहा है। बंगाल की खाड़ी ही इस तूफान का मूल था। पहले तूफान के साथ इतनी बारिश और पानी नहीं आता था लेकिन अब ऐसा नहीं है|

अगर आपको याद है, तो मिचौंग तूफान लगभग छह महीने पहले दिसंबर 2023 में चेन्नई सहित पूरे दक्षिण भारत को तबाह कर दिया था। चेन्नई शहर बारिश के पानी में डूब ही गया। तूफान खतरनाक क्यों हैं? तबाही लाते हैं और प्रचुर मात्रा में पानी बटोरकर किसी भी बड़े क्षेत्र में भयानक स्थिति पैदा करते हैं।

यहाँ हम चक्रवात, या साइक्लोन के बारे में जानेंगे। ये बनते कैसे हैं? कैसे प्रगति करते हैं? इनकी शक्ति कितनी है और वे कैसे हवा और बारिश से बवंडर बनाते हैं।

Q –  साइक्लोन, या चक्रवात, कैसे भारी बारिश पैदा करते हैं?

A –  दरअसल, चक्रवात एक जगह पर बहुत कम दबाव होने पर हवा को बड़े क्षेत्र से खींचना शुरू करते हैं। जब हवा निम्न दबाव केंद्र में एकत्रित होती है, तो वह ऊपर उठने लगती है। इसमें मौजूद हवा में बहुत अधिक नमी है। ये ऊपर जाकर बादल बन जाते हैं और तूफान के साथ गिरते हैं। ये बादल इतने बड़े हैं कि सैकड़ों हाथियों के वजन के बराबर बारिश देते हैं। तूफान जब कहीं टकराता है, तो उस क्षेत्र में भारी बारिश होती है।एक तूफान का प्रभाव बहुत बड़े क्षेत्र तक फैलता है क्योंकि वह एक विशाल क्षेत्र से हवा खींचता है।

चक्रवाती वर्षा तब होती है जब गर्म नम हवा ठंडी शुष्क हवा के संपर्क में आती है। कम दबाव का क्षेत्र बनता है जब पानी के ऊपर की हवा गर्म होकर ऊपर उठती है।

लट्टू अपनी धुरी पर घूमता रहता है। इसलिए यह हवा सीधी दिशा में नहीं आकर घूमती हुई उस स्थान की ओर चली जाती है। यह चक्रवात है।

Q –  अक्सर तूफान के साथ भारी बारिश क्यों होती है?

A –  जब तूफान बहुत तेज गति से जमीन से टकराता है, बादल खुद को संभाल नहीं पाते, इसलिए भारी वर्षा होने लगती है। तूफान के साथ अक्सर मूसलाधार बारिश होती है क्योंकि बारिश बहुत तेज होती है।

Q –  क्या चक्रवात अपने साथ और खतरे लाते हैं?

A –  तेज हवा, तट के करीब समुद्र का स्तर असामान्य रूप से ऊँचा होना, निचले इलाकों का जलमग्न होना और पानी के साथ पेड़ों और मकानों का नष्ट होना चक्रवात का मुख्य लक्षण हैं। निचले तटीय क्षेत्रों में पानी अंदर जाकर बस्तियों को बर्बाद करता है। अपने सामने आने वाली किसी चीज को उखाड़ता है, जिससे जान-माल का बहुत नुकसान होता है।
चक्रवात की हवाएं सामान्य ज्वार के स्तर से कई मीटर ऊपर समुद्र के स्तर को उठा सकती हैं। इससे तटीय बाढ़ और गंभीर बाढ़ का खतरा भी है, जैसा कि चेन्नई और दक्षिण भारत के कई अन्य क्षेत्रों में देखा जाता है।

Q –  पहले तूफान इतनी बारिश नहीं लाते थे, तो अब पूरी दुनिया में इतनी बारिश कैसे होने लगी?

A – हाल के वर्षों में ऐसे तूफान अमेरिका और एशिया में आ रहे हैं। जो विनाशकारी होते जा रहे हैं। प्रिंसटन के शोधकर्ताओं ने हाल ही में किया गया एक अध्ययन के अनुसार, यह प्रवृत्ति जारी रहने की संभावना है। गर्म हवा में अधिक नमी और तूफान की अधिक हवा की गति से अधिक बारिश होती है।

Q – क्या आने वाले तूफान बारिश से अधिक खतरनाक हो जाएंगे?

A – यह वैज्ञानिक अध्ययन कहते हैं। प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के एनवायरमेंट डिपार्टमेंट (https://environment.princeton.edu/) ने एक अध्ययन में बताया कि समुद्र की सतह के बढ़ते तापमान और बढ़ती नमी के कारण तूफान में बारिश की तीव्रता पूर्वानुमान से दोगुना होगी। तापमान बढ़ने पर उष्णकटिबंधीय तूफानी हवाएं तेज होंगी। तेज हवाओं वाले तूफान भी अधिक वर्षा करते हैं, जैसा कि अध्ययन बताते हैं। हाल के वर्षों में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के साथ भारी बारिश ने तूफान के रास्ते में आने वाले क्षेत्रों को बर्बाद कर दिया है। विशेष रूप से समुद्र तटीय शहरों में।

Q –  क्या ये सही है कि जब समुद्र का पानी गर्म होगा, तो तूफान अधिक होंगे?

A – ये बिल्कुल सही है। ग्लोबल वार्मिंग समुद्री पानी को गर्म कर रहा है। मार्च से अब तक अरब सागर का पानी 1.2 सेंटीग्रेड गर्म हो गया है। ग्लोबल वार्मिंग से समुद्र गर्म पूल बन जाता है। इससे दुनिया भर में तूफ़ान बढ़ रहे हैं।

Q – चक्रवात की आंख क्या होती है?

A –  चक्रवात में तेजी से घूमती हुई हवा हमेशा एक रिक्त बिंदु होता है क्योंकि हवा उस बिंदु के चारों ओर घूमती है लेकिन उस तक नहीं पहुंचती। यह चक्रवात की आंख है।

Q –  है कि चक्रवात कमजोर कब होता है?

A – चक्रवात समुद्र में उत्पन्न होते हैं और फिर वहां से बाहर निकलते हैं। लेकिन जब वह समुद्र तट से टकराते हैं तो उनकी शक्ति कम हो जाती है। जमीन पर हवा का उच्च दबाव इसका कारण है। चक्रवात की दिशा का अनुमान लगाया जा सकता है, लेकिन उसका रास्ता नहीं बताया जा सकता।

Q – जब चक्रवात आता है, हवा की रफ्तार कहां तक जा सकती है?

A – चक्रवात हवा की रफ्तार पर आधारित हैं। श्रेणी एक में हवा की रफ्तार 119 से 153 किमी/घंटा है, जबकि श्रेणी दो में 154 से 177 किमी/घंटा है। श्रेणी तीन में 178 से 208 km/h। श्रेणी चार में तूफान 209 से 251 km/h तक चलते हैं, जबकि श्रेणी पांच में 252 km/h तक चलते हैं। इन सभी में, वे हर किसी को मार डालते हैं। रफ्तार अधिक होने पर उनकी क्षमता भी बढ़ जाती है।