UP Assembly Election: चुनाव प्रचार में कोई भी पार्टी कोर- कसर नहीं छोड़ना चाहती। कल अमित शाह के कैराना दौरे के बाद आज यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में डोर-टू-डूर जाकर कैम्पेन चलाकर पार्टी के लिए वोट मांगे। बता दें कि सीएम  योगी ने  गाजियाबाद के मोहन नगर इलाके में डोर टू डोर जाकर चुनाव प्रचार किया।

कोरोना काल के दौरान सभी पार्टी गायब थीं

साथ ही योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद के मोहन नगर में कृष्णा इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित भाजपा के प्रभावी मतदाता संवाद विधान सभा कार्यक्रम में कहा कि, उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। आगे सीएम ने कहा कि कोरोना कालखंड में कांग्रेस, सपा और बसपा मैदान से गायब थी, सिर्फ केंद्र और प्रदेश सरकार या बीजेपी के कार्यकर्ता एक-एक लोग का जीवन बचाने के लिए जद्दोजहद कर रही थी जो संकट के समय आपका साथी नहीं तो उस व्यक्ति को आप चुनाव के समय अपना साथी कैसे चुन सकते हैं? वे सत्ता को ‘शोषण’ का माध्यम बनाते थे, हमने सत्ता को ‘सेवा’ का माध्यम बनाया है।

2017 से पहले बिजली आती ही नहीं थी

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 से पहले बिजली आती ही नहीं थी, जो आज कह रहे हैं कि 300 यूनिट बिजली मुफ्त में देंगे, तो इनसे पूछना चाहिए कि पहले बिजली आती नहीं थी और जब बिजली ही नहीं आएगी तो आप बिजली फ्री में देने की बात कैसे कर रहे हैं?
वहीं अब कहते हैं कि हम पुरानी पेंशन बहाल करेंगे, पुरानी पेंशन जब रोकी गई थी, तब उनके ‘अब्बाजान’ ही मुख्यमंत्री थे।

हमने जो कहा, वह हमने किया

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिस विश्वास के साथ प्रदेश की जनता ने भाजपा को 2017 में अपना वोट दिया था, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2017 से पहले जो संकल्प पत्र जनता को दिया था उसमें जो कुछ भी वादे किए गए थे, उन सभी वायदों को सरकार ने बखूबी निभाया है। वहीं समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए योगी ने कहा,हमने अपना बंगला नहीं बनाया, हमने 43 लाख गरीबों के लिए एक-एक मकान बनाया।

अब कैराना से पलायन नहीं होगा

सीएम योगी ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले कैराना के लोगों को डराया जाता था, धमकाया जाता था लेकिन अब प्रदेश में भाजपा की सरकार है। अब कैराना से पलायन नहीं होता बल्कि पलायन कराने वाले खुद पलायन कर जाते हैं।