नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने मुख्य चुनाव आयुक्त भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली को पत्र लिखकर उत्तर प्रदेश विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 को स्वतंत्र, निष्पक्ष, निर्भीक सम्पन्न कराने के लिए आदर्श आचार संहिता का सख्ती से पालन कराने तथा सख्त कार्यवाही किये जाने की मांग की है।

राजेन्द्र चौधरी ने लिखा, गुजरात सहित अन्य राज्यों के बाहरी लोग बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपदों की विधान सभाओं में चुनाव को प्रभावित करने में संलग्न हैं, उन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाय तथा ऐसे लोगो को उत्तर प्रदेश से बाहर किया जाय। पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरूण तथा उनके साथ पिछले पांच वर्षो से तैनात रहे अधिकारियों और पुलिस विभाग के महत्वपूर्ण लोगो की जांच की जाय, तथा चुनाव के दौरान पदों से मुक्त किया जाय और ऐसे लोगो पर तत्काल रोक लगाई जाय, और जांच करके संलिप्त अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाय।

आगे राजेन्द्र ने लिखा, मुख्य चुनाव आयुक्त के संज्ञान में लाया गया है कि समाजवादी पार्टी के कार्यक्रमों और कार्यालय पर पूरी पाबन्दी लगा दी गई है और गाड़ियों के चालान किये जा रहे हैं, जबकि विपक्षी पार्टी भाजपा के मंत्रीगण, विधायकगण, नेता और कार्यकर्तागण खुलेआम आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं।

गोरखपुर और अमरोहा में भाजपा के प्रत्याशी कोरोना गाइडलाईन का सरेआम मजाक उड़ा रहे हैं। टिकट मिलने की खुशी में रैलियां निकाली गई हैं हमारी मांग है कोरोना गाइड़लाइन का सख्ती के साथ पालन कराया जाय और इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश का सूचना विभाग सत्तारूढ़ दल बीजेपी के प्रचार व प्रसार के लिए लगातार सरकारी विज्ञापन जारी कर रहा है। इस पर भी तत्काल रोक लगाई जाय और जांच करके संलिप्त अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाय।

चौधरी ने मांग की है कि समाजवादी पार्टी की शिकायतों का संज्ञान लेकर आदर्श आचार संहिता का सख्ती के साथ पालन सुनिश्चित कराया जाय तथा सत्तारूढ़ दल भाजपा के द्वारा किये जा रहे आदर्श आचार संहिता के उल्लघन के विरूद्ध कार्यवाही की जाय।