लखनऊ: सूबे में विधानसभा चुनाव शुरू होने में केवल एक सप्ताह बाकी है, चुनाव आयोग राजनीतिक पार्टियों को कोविड-19 के मानदंडों के तहत चुनाव प्रचार करने की छूट दे रहा है लेकिन अभी भी कुछ पार्टियां ऐसी हैं जो कोविड-19 के मानदंडों का खुले आम तौर पर उल्लंघन कर रही हैं खबर है कि समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख जयंत चौधरी सहित 400 लोगों पर कोविड-19 मानदंडों का उल्लंघन करने पर एफ आई आर दर्ज की गई है।

बता दें कि यह मामला उत्तर प्रदेश के दादरी से सपा प्रत्याशी राजकुमार भाटी और गौतम बुद्ध नगर के चीफ इन्द्र प्रधान के खिलाफ दर्ज किया गया है। कोविड-19 मानदंडों का उल्लंघन किए गए लोगों में 300-400 समर्थक भी शामिल हैं।

वहीं कुछ दिन पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख जयंत चौधरी की गढ़ में हुई सभा के बाद गठबंधन प्रत्याशी रविंद्र चौधरी समेत 2 हजार लोगों पर केस दर्ज किया गया था। दरअसल गढ़ के लवकुश गार्डन में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी ने सभा की थी। इस दौरान झंडे लेकर हजारों लोग मौजूद रहे। आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर पुलिस ने यह कार्रवाई की। मामले में गठबंधन प्रत्याशी रविंद्र चौधरी के साथ 2000 लोगों पर केस दर्ज कर लिया था‌।

जहां देश में विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं ऐसे में चुनाव आयोग के लिए कोविड-19 के मद्देनजर चुनाव कराने की प्रक्रिया और कठिन होती जा रही है। जहां प्रत्याशी कोविड-19 मानदंडों का पालन नहीं कर रहे हैं, वहीं पार्टियों में आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी थमने का नाम नहीं ले रहा। गृह मंत्री अमित शाह का कैराना दौरा होने के बाद से विपक्षी पार्टियां अमित शाह को टारगेट करके कोविड-19 के मानदंडों का उल्लंघन करने का हवाला दे रही हैं। विपक्षी पार्टियों का कहना है कि कोविड-19 केवल और केवल विपक्ष के लिए हैं भाजपा के लिए नहीं।