cold in north india: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत उत्तर भारत के कई राज्य इस समय भयंकर सर्दी की चपेट में हैं. हालांकि पिछले हफ्ते एक दो दिन निकली धूप ने जरूर लोगों को सर्दी से राहत दी थी, लेकिन मौसम ने एक बार फिर करवट ली है और सर्दी का प्रकोप फिर से लोगों के लिए संकट खड़ा कर रहा है. हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर और उत्तराखंड में हो रही बर्फबारी की वजह से मैदानी राज्यों में शीत लहर चल रही हैं. यह ठंड का ही असर है कि सुबह और शाम में सड़कें खाली दिखाई देने लगी हैं. यहां तक कि मॉरनिंग और इवनिंग वॉक करने वाले लोग भी अब इक्का-दुक्का ही दिखाई पड़ते हैं. सर्दी की वजह से मानों लोग जैसे अपने घरों में कैद हो गए हैं. इस बीच में हो रही बारिश (Rain) से ठंड और बढ़ जा रही है. दिल्ली में सौसम का आलम यह है कि कहीं आसमान में धूप खिल रही है तो कहीं पल भर में बादल (Cloud) छा जा रहे हैं. जबकि, मौसम विभाग का कहना है कि फरवरी में सामान्य से अधिक ठंड पड़ने की संभावना है. वहीं, बारिश भी सामान्य से अधिक हो सकती है.

 टीम इंडिया पर हुआ कोरोना का वार शिखर धवन सहित 8 खिलाड़ी हुए पॉजिटिव

2-4 फरवरी के दौरान हल्की से मध्यम बारिश

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और उत्तर प्रदेश सहित उत्तर-पश्चिम भारत में 2-4 फरवरी के दौरान हल्की से मध्यम बारिश होगी. IMD ने कहा कि 2 फरवरी को पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में छिटपुट हल्की वर्षा होने की संभावना है, 3 और 4 फरवरी को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में हल्की/मध्यम वर्षा होने की संभावना है. बारिश की तीव्रता 3 फरवरी को अधिक रहेगी. IMD ने यह भी कहा कि 2-3 फरवरी को हिमाचल प्रदेश में और 3-4 फरवरी को उत्तराखंड के अलग-अलग क्षेत्र में ओलावृष्टि की संभावना है.

 93 वर्ष की आयु में कलाकार रमेश देव के निधन से फिल्म इंडस्ट्री में आई शोक की लहर

बिजली के साथ मध्यम वर्षा

एक ताजा सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ और इससे प्रेरित चक्रवाती परिसंचरण के प्रभाव के कारण बारिश होने की संभावना है. IMD के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ से जुड़े निचले स्तर की पश्चिमी हवाओं और निचले क्षोभमंडल के स्तर पर बंगाल की खाड़ी से निचले स्तर की दक्षिण-पूर्वी हवाओं के बीच संगम के कारण बिहार, झारखंड में गरज या बिजली के साथ काफी व्यापक प्रकाश या मध्यम वर्षा होने की संभावना है.