मनोरंजन

बप्पी दा को हाॅलीवुड के इस आर्टिस्ट ने सोना पहनने के लिए किया इंस्पायर्ड

बॉलीवुड के लेजेंड्री सिंगर और म्यूजिक कंपोजर बप्पी लाहिरी का आज निधन हो गया है। 69 साल के बप्पपी दा ने मुंबई के एक अस्पताल में अपनी आखिरी सांस ली। बताया जा रहा है कि बीती रात बप्पी लाहिरी की तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें जुहू के एक अस्पताल में लाया गया। लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी।

कई नामों से विख्यात थे बप्पी दा
क्या आपको पता है बप्पी लाहिरी के नाम से फेमस होने वाले बप्पी दा का असली नाम क्या था! उनका असली नाम अलोकेश लाहिरी था। बप्पी लाहिरी का जन्म पश्चिम बंगाल में 27 नवंबर 1952 को हुआ था। बाॅलीवुड इंडस्ट्री में बप्पी लाहिरी को बप्पी दा और डिस्को किंग ऑफ इंडिया के नाम से भी जाना जाता था।

बंगाली परिवार में पैदा हुए बप्पी दा
बप्पी लाहिरी का जन्म एक बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम अपरेश लाहिरी और उनकी मां का नाम बन्सारी लाहिरी था। बप्पी लाहिरी की शादी चित्राणी लाहिरी से 24 जनवरी 1977 को हुई थी। उनके दो बच्चे हैं बेटी रीमा लाहिरी और बेटा बप्पा लाहिरी।

छोटी उम्र से ही म्यूजिक से हुआ लगाव
बप्पी लाहिरी को बहुत छोटी उम्र से ही संगीत में रुचि थी। वो बचपन में ही तबला, पियानो, ड्रम, गिटार और अन्य म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाना सीख गए थे।

बप्पी दा को क्यों पसंद था सोना
बप्‍पी लाहिरी ने एक इंटरव्यू में अपने इस राज से पर्दा उठाया था। उन्होंने बताया था कि एक हॉलीवुड आर्टिस्ट की वजह से उन्होंने सोना पहनना शुरू किया था। बप्‍पी दा ने कहा था, मैं हॉलीवुड सिंगर एल्विस प्रेस्ली को काफी पसंद करता था। मैंने देखा था कि वह हमेशा एक सोने की चेन गले में पहना करते थे। मुझे उनका वो अंदाज काफी पसंद आया था। एल्विस प्रेस्ली को ही देखकर बप्‍पी दा ने निर्णय किया था कि वह और ज्यादा सफल बनकर रहेंगे। साथ ही बप्‍पी दा सोने को अपने लिए लकी भी मानते थे।उनका उतना सोना पहनना चाहते थे, जितना वह इंडस्ट्री में सफल हो पाएंगे। बप्‍पी लाहिरी कितना सोना पहनकर चलते थे, तो इसका जवाब भी उन्होंने दिया हुआ है। 2014 में बप्‍पी दा ने चुनाव लड़ा था, उसी दौरान उन्होंने इस बात की जानकारी खुद दी थी कि उनके पास 754 ग्राम सोना है और 4ण्62 ग्राम चांदी है।

पहला कदम एक्टिंग में रखे थे बप्पी दा
बप्पी लाहिरी ने बंगाली फिल्म इंडस्ट्री में दादू फिल्म से डेब्यू किया था। वहीं बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में उनका पदार्पण नन्हा शिकारी फिल्म से हुआ था। 80 के दशक में बप्पी लाहिरी के गाने बहुत पॉपुलर हुए थे। गौरतलब है कि बप्पी लाहिरी के करियर में मोड़ 1975 में रिलीज हुई जख्मी फिल्म से आया था। इस फिल्म के लिए बप्पी लाहिरी ने म्यूजिक कंपोज किया था और प्लेबैक सिंगर का रोल भी निभाया था।

बप्पी लाहिरी ने हिंदी और बंगाली समेत कई भाषाओं में गाने गाए। उनके बहुत सारे गाने सुपरहिट रहे। आई एम अ डिस्को डांसर सहित उनके कई ऐसे गाने हैं जो आज भी फैंस की जुबान पर चढ़े रहते हैं। बप्पी लाहिरी को बॉलीवुड गानों में पॉप का तड़का लगाने के लिए जाना जाता है।संगीतकार बप्पी लाहिरी के सुपरहिट गानों में बंबई से आया मेरा दोस्त, देखा है मैंने तुझको फिर, रात बाकी बात बाकी, कोई यहां आहा नाचे नाचे, याद आ रहा है, यार बिना चैन कहां रे, दिल में हो तुम और ऊ ला ला शामिल हैं। बप्पी लाहिरी ने साल 1985 और 2018 में फिल्म फेयर अवॉर्ड जीता। 1985 में उन्होंने बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर की कैटेगरी में फिल्म फेयर अवॉर्ड जीता था।

Related Articles

Back to top button
Share This
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज