झारखंड के धनबाद में अवैध कोयला खनन के दौरान दर्दनाक हादसा हुआ। जिसमें कई लोगों की मौत की खबर सामने आई है। घटना निरसा प्रखंड के ईसीएल मुगमा एरिया में कोयला खनन के दौरान हुई। जानकारी के मुताबिक करीब 20 फुट ऊपर से चाल गिरने के कारण ये हादसा हुआ। हादसे में करीब दर्जन भर से ज्यादा लोग मलबे में दब गए। हादसे के बाद वहाँ अफरा तफरी मच गई। स्थानीय लोगों की मदद से कुछ लोगों को मलबे से निकाला गया। घायलों को निकटतम अस्पताल पहुंचाया गया जहाँ उनका इलाज चल रहा है। रेस्क्यू ऑपरेशन अभी जारी है जिसमें अभी तक 11 शव निकाले जा चुके हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक मंगल के दिन भारी संख्या में महिलाएं पुरुष और बच्चे अवैध खनन करने के लिए सुबह करीब 5:00 बजे आउटसोर्सिंग पर गए थे। जहाँ ईसीएल प्रबंधन की ओर से ट्रेंच कटिंग किया गया था इसी दौरान अचानक 20 फीट ऊपर से चाल नीचे गिर गई, इस दर्दनाक हादसे में दर्जनभर से ज्यादा लोग दब गए।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार शाम तक ईसीएल की गोपीनाथपुर खदान में पांच लोगों के शव मिले हैं। जिसमे से चार शवों को पुलिस ने मलबे से बरामद किया। एक शव को कोयला खनन में लगे साथी मजदूर को लेकर भाग निकले। कापासारा आउटसोर्सिंग से तीन शव और बीसीसीएल की बंद पड़ी दहीबाड़ी सी पैच से तीन शव निकाले गए हैं। मलबे को हटाने का काम देर शाम तक जारी रहा। आशंका जताई जा रही है कि मलबे में और भी शव दबे हो सकते हैं।

सूचना मिलते ही पूर्व विधायक अरूप चटर्जी घटनास्थल पर पहुँच गए। मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि सुबह के 4:00 बजे की घटना है लेकिन अब तक रेस्क्यू ऑपरेशन नहीं पहुंचा हैं, सबसे दुर्भाग्य की बात है की पुलिस प्रशासन या ईसीएल प्रशासन भी कहीं भी नजर नहीं आ रहा है।