लालकृष्ण आडवाणी ने महान गायिका लता मंगेशकर को आज एक स्टेटमेंट जारी कर श्रद्धांजलि दी और उनके साथ लंबे जुड़ाव को याद किया । उन्होंने कहा, ‘लता जी एक अच्छी गायक थीं । मैं हर मुलाकात में उनकी सादगी, गर्मजोशी और सबसे बढ़कर, हमारे महान देश के लिए उनके प्यार से प्रभावित हुआ ।

आडवाणी की पसंदीदा गायिका थीं लता मंगेशकर
लालकृष्ण आडवाणी का कहना है कि लता जी का गाया ‘राम भजन’ सोमनाथ से अयोध्या तक उनकी ‘रथ यात्रा’ की ‘सिग्नेचर ट्यून’ बन गई थी । मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वे बयान में आगे लिखते हैं, ‘लता जी लोकप्रिय गायकों में मेरी हमेशा पसंदीदा रही हैं और उनके साथ एक लंबा जुड़ाव होने की वजह से, मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं.’

रिकॉर्ड कर भेजा था राम भजन
लालकृष्ण आडवाणी, लता जी के साथ पुराने जुड़ाव को याद करते हुए कहते हैं, ‘मुझे वह समय याद है जब उन्होंने एक खूबसूरत श्री राम भजन रिकॉर्ड किया था और मुझे भेजा था. तब मैं सोमनाथ से अयोध्या तक की अपनी रथ यात्रा शुरू करने वाला था. वह यादगार गीत- ‘राम नाम में जादू ऐसा, राम नाम मन भाए, मन की अयोध्या तब तक सूनी, जब तक राम न आए…’ मेरी रथ यात्रा का सिग्नेचर ट्यून बन गया था.’

लता जी का यह गाना था सबसे ज्यादा पसंद
उन्होंने कहा, ‘हिंदी सिनेमा के लिए गाए लता जी के अनगिनत खूबसूरत गानों में से, मुझे ‘ज्योति कलश छलके’ खासतौर पर पसंद रहा है. लता जी ने जब भी मेरे अनुरोध पर पब्लिक ईवेंट्स में यह गाना गाया, मैं हर बार अभिभूत हुआ.’ लता मंगेशकर का 92 साल की आयु में मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में आज 6 फरवरी को निधन हो गया ।