भारत ने अंडर-19 विश्व कप के फाइनल में इंग्लैंड को चार विकेट से हरा दिया और पांचवीं बार खिताब अपने नाम किया। इससे पहले टीम इंडिया 2000, 2008, 2012 और 2018 में विश्व कप जीत चुकी है। वहीं, 2006, 2016 और 2020 में भारतीय टीम को फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम 44.5 ओवर में 189 रन पर ऑलआउट हो गई। जेम्स रियू ने सबसे ज्यादा 95 रन बनाए। वहीं, भारत की ओर से राज बावा ने पांच और रवि कुमार ने चार विकेट झटके। अंडर-19 वर्ल्डकप में बेहतरीन प्रदर्शन कर चार विकेट लेकर रवि कुमार ने सबको चौंका दिया। CRPF जवान के बेटे रवि कुमार ने अलीगढ़ जगदीश दत्त शर्मा क्रिकेट अकेडमी (जेडीएससीए) में प्रशिक्षण लिया है । रवि कुमार के प्रदर्शन के बाद अब परिवार में हर्ष का माहौल है ।

 

रवि के कोच ने कही ये बड़ी बात
रवि कुमार के कोच अरविंद भारद्वाज ने कहा कि 2014 में बॉल फेंकते हुए रवि कुमार मुझे रास्ते में मिला । मैंने उसके पिता से बात करके उसको अभ्यास कराना शुरू किया । उसने बहुत तेजी से वर्क आउट किया । मेरी अकेडमी से उसने 500 से ज्यादा मैच खेले । मैं ही उसको पश्चिम बंगाल लेकर गया । उसने अपने अच्छे प्रदर्शन के बारे में पूछा, उसका भविष्य निःसंदेह बहुत अच्छा है ।

 

रवि के परिवार में खुशी
वहीं अकेडमी में रवि कुमार के दोस्त अजयवीर सिंह ने बताया कि 2014 से वह प्रैक्टिस में मेरे साथ 100 मैच खेला है । वह बहुत अच्छा खिलाड़ी है । मैंने उसके साथ बहुत मैच खेले हैं । वहीं रवि कुमार की बहन और मां ने बताया कि शुरू से ही रवि को क्रिकेट खेलने का शौक था ।

उसको अकैडमी में दाखिल कराया और उसके बाद वह लगातार कड़ी मेहनत के साथ प्रैक्टिस कर आगे बढ़ता गया । अब जब हमें यह सुनने को मिला की अंडर-19 वर्ल्ड कप में उसने चार विकेट लेकर देश का नाम रौशन किया है । यह हमारे लिए बेहद खुशी का पल था और हमारे साथ-साथ देश भी उसके इस कामयाबी पर खुशी मना रहा है ।