Assembly Elections 2022: पांच राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए, भारत के चुनाव आयोग (ईसीआई) ने 10 फरवरी से 7 मार्च के बीच एग्जिट पोल कराने और प्रकाशित करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। आपको बता दें क‍ि अगले दो महीनों में पांच राज्‍यों में कुल 690 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा। जिसकी पूरी तैयारी हो चुकी है। इसी के तहत भारतीय चुनाव आयोग ने एग्‍ज‍िट पोल को लेकर भी गाइडलाइन जारी की हैं।

10 फरवरी से 7 मार्च तक एग्‍ज‍िट पोल पर रोक
चुनाव आयोग ने अपने आदेश में का कि कोई भी व्यक्ति किसी भी एक्जिट पोल का संचालन नहीं करेगा और किसी एक्जिट पोल के परिणाम को प्रिंट या किसी अन्य तरीके से प्रकाशित या प्रचारित नहीं करेगा। वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि एग्जिट पोल कराने, प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में इसके प्रकाशन या इसके प्रचार पर 10 फरवरी को सुबह सात बजे से सात मार्च की शाम 6.30 बजे तक रोक लगा दी गई है।

वर्ना जाना होगा जेल
उन्‍होंने आगे कहा कि जिन राज्‍यों में मतदान होगा वहां पर मतदान समाप्‍त होने के 48 घंटों के बाद भी कोई इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में किसी भी ओपिनियन पोल या अन्य किसी मतदान सर्वेक्षण के परिणामों सहित किसी भी प्रकार के निर्वाचन संबंधी मामले के प्रदर्शन पर प्रतिबंध होगा। आदेश का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति को दो साल की जेल या जुर्माना या दोनों से दंडित किया जाएगा।

यह है मतदान का पूरा शेड्यूल
– उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होगा। यह सातों चरण के मतदान 10 फरवरी, 14 फरवरी, 20 फरवरी, 23 फरवरी, 27 फरवरी, 3 मार्च और 7 मार्च को आयोजित होंगे।
– पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में 14 फरवरी को मतदान होगा।
– मणिपुर में दो चरणों में 27 फरवरी को मतदान होगा।
– अगले दो महीनों में कुल 690 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान होगा, जिसमें अधिकतम यूपी (403 सीटें) के बाद पंजाब (117), उत्तराखंड (70), मणिपुर (60) और गोवा (40) होंगे।