सोशल मीडिया की सबसे बड़ी कंपनी फेसबुक (Facebook) द्वारा बीते दिनों अपना नाम META कर देने के बाद से “मेटावर्स (Metaverse)” शब्द काफी चर्चा में बना हुआ है जिसे भविष्य का इंटरनेट कहा जा रहा है फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने भी कहा कि उनकी कंपनी META इस तकनीक पर तेजी से कार्य कर रही है और जल्द ही आपके सामने मौजूद होगी ।

माइक्रोसॉफ्ट ने हाल ही में कहा था कि वह एक्टिविजन ब्लीजार्ड को 9 बिलीयन डॉलर्स में खरीदने वाला है जिससे मेटावर्स में विस्तार किया जा सके, आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर कैसी होगी मेटावर्स की दुनिया और किस तरह बदलने जा रहा है भविष्य का इंटरनेट

दरअसल मेटावर्स एक प्रकार की वर्चुअल दुनिया है और आप इस दुनिया में अपने वर्चुअल अवतार के जरिए दूसरे लोगों से मिल भी पाएंगे और सभी काम वर्चुअली कर पाएंगे, जो आप अपनी असल जिंदगी में करते हैं, यानी कि इसमें वास्तविकता (Reality) को वर्चुअल रूप दिया जाने वाला है वैसे ही मेटावर्स का आईडिया आज का नहीं यह शब्द दशकों पुराना है… अमेरिकी लेखक नील स्टीफ़ेन्सन (Neal Stephenson) ने पहली बार 1992 में अपनी किताब Snow Crash में मेटावर्स शब्द का इस्तेमाल वर्चुअल रियलिटी की दुनिया के लिए किया था। मेटावर्स को एक ऐसा ऑनलाइन स्पेस भी माना जाता है जहां लोग अपने अवतार के जरिए सोशलाइज हो पाएंगे, काम कर पाएंगे और साथ ही खेल भी पाएंगे ।

मेटा वर्ष पर एक दूसरे से बातचीत करने की खातिर हमें  AR (ऑगमेंटेड रियलिटी) या VR (वर्चुअल रियलिटी) हेडसेट की जरूरत पड़ने वाली है बस पर हम अपने दोस्तों के साथ डांस कर सकते हैं पहाड़ों पर जा सकते हैं उनके साथ गेम खेल सकते हैं और उनके साथ फिल्म भी देख पाएंगे हालांकि यह पूरी तरीके से आभासी दुनिया में होगा इसमें आपका अपना एक अवतार होगा जिसे आप खुद डिजाइन भी कर पाएंगे साथ ही कुछ ऐसी डिजिटल संपत्ति होगी और ऑनलाइन घर बना पाएंगे जिससे आप अपने दोस्तों का मनोरंजन कर पाए

मेटावरेस पर सिर्फ एक होगा या इससे ज्यादा, फिलहाल यह देखना अभी बाकी है क्योंकि मेटावर्स के लिए कोई मानक तय नहीं किया गया है । बहुत सी कंपनियां फिलहाल इस पर लगातार काम कर रही हैं जिन्हें बाकी भी फॉलो करने वाले है।

बात करें फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट, सोनी, एपिक गेम्स और छोटी कंपनियों का एक समूह सबसे पहले इस मेटावर्स की दुनिया पर राज करने की कोशिश में लगा हुआ है अधिकांश कंपनियां एक मेटावर्स का ही वादा करती हैं जिससे अन्य कंपनियां भी शामिल होंगी…

जूतों और कपड़ों के कई दिग्गजों ब्रैंड मेटावर्स की दुनिया में प्रवेश करने पर विचार कर रहे हैं या नहीं जल्दी ही आपको मेटावर्स के दुनिया में वर्चुअल दुकानें भी दिखेंगी आप इन वस्तुओं को  एनएफटी (नॉन फंगिबल टोकन) की मदद से मेटावर्स में खरीद सकते हैं और प्रयोग कर सकते हैं।

यह देखने लायक होगा कि किस तरह यूजर्स असल दुनिया को छोड़ कर एक आभासी दुनिया में आपस में मिलजुल बढ़ाएंगे।