UP Assembly Election 2022: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव का चुनावी बिगुल फुक चुका है. कांग्रेस और बीजेपी समेत सभी राजनीतिक दल अपने-अपने हिसाब से सियासी बिसात बिछा रहे हैं. सभी दलों ने चुनावी प्रचार में पूरी ताकत झोंक रखी है. कोई दल, कोई उम्मीदवार ऐसा नहीं है जो चुनाव जीतने में कोई कसर शेष छोड़ना चाहता हो. इस बीच कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को 61 उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी कर दी. कांग्रेस ने अपनी इस लिस्ट में 24 महिलाओं को भी जगह दी है.

 Goa Assembly Election: आज गोवा में बोले अमित शाह- बीजेपी के लिए गोवा का मतलब ‘गोल्डन गोवा’ है लेकिन कांग्रेस के लिए इसका मतलब ‘गांधी परिवार का गोवा’ 

कांग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश में अब तक 127 महिलाओं को टिकट दिया

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने उत्तर प्रदेश में अब तक 127 महिलाओं को टिकट दिया है. कांग्रेस ने 125 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की थी, उसमें 50 महिलाएं हैं, जबकि 41 उम्मीदवारों की दूसरी सूची में 16 महिलाओं को जगह दी गई है. इसके अलावा 89 उम्मीदवारों की तीसरी सूची में कांग्रेस 37 महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा है. कांग्रेस की चौथी सूची में रायबरेली और अमेठी के उम्मीदवारों को भी शामिल किया गया है. यहां कांग्रेस ने चंदपुर से सुरेंद्र विक्रम सिंह पर भरोसा जताया है. वहीं, सरेनी सीट से सुधा द्विवेदी को टिकट दिया है. ये दोनों विधानसभा सीटें रायबरेली में हैं. अगर अमेठी की बात करें तो कांग्रेस पार्टी ने गौरीगंज से मोहम्मद फतेह बहादुर को मैदान में उतारा जा रहा है.

 राजनीति : राहुल गांधी के हिन्दुत्व वाले बयान पर सियासी बवाल, मुख्तर अब्बास नकवी बोले -कांग्रेस का यही हिंदुत्व विरोधी मंतर कांग्रेस को छूमंतर करेगा‌

महिला उम्मीदवारों को 40 फीसदी टिकट

इसके साथ ही कांग्रेस पार्टी ने हाथरस से कुलदीप कुमार सिंह, कासगंज से कुलदीप पांडे, किशनी (एससी) से डॉ विनय नारायण सिंह, बीसलपुर से शिखा पांडे को चुनावी मैदान में उतारा है. आपको बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी करते हुए कहा था कि पार्टी महिला उम्मीदवारों को 40 फीसदी टिकट देने के अपने वादे को पूरा कर रही है. प्रियंका गांधी ने रविवार को कहा कि भाजपा नेता भीड़ के साथ कैंपेन करें, नफरत भरी बातें करें. प्रशासन का कोई एक्शन नहीं.लेकिन कांग्रेस पार्टी को आज प्रयागराज में युवा घोषणापत्र जारी करने से रोका गया. सरकार के दबाव में चुनाव आयोग व प्रशासन युवाओं के एजेंडे को दबाने और लोकतंत्र को कुचलने में लगा हुआ है. निष्पक्षता?