यूं तो क्रेडिट कार्ड बदलते जमाने की जरूरत है और इससे हमें आर्थिक सुरक्षा का अहसास बना रहता है. वहीं, कुछ लोग क्रेडिट कार्ड से जमकर खरीदारी कर उसका खूब इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान के बीच एक बहुत बारीक लाइन होती है. इसका सही इस्तेमाल वास्तव में वही कर पाता है, जिसको इस लाइन की पूरी समझ है. क्योंकि क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल से ज्यादातर लोग कर्ज की दलदल में फंसते चले जाते हैं. इसलिए इस बात का ध्यान रखा जाए कि बहुत ज्यादा जरूरत होने पर ही क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किया जाए और इसके बिलों को भी समय ही चुकता कर देना चाहिए.

भरपूर खरीदारी की आजादी देता है क्रेडिट कार्ड

दरअसल, क्रेडिट कार्ड आपको भरपूर खरीदारी की आजादी देता है. हालांकि इसकी एक लिमिट भी रहती है. लेकिन क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल में की गई जरा सी भी लापरवाही आपको भारी पड़ सकती है. क्योंकि समय पर बिल न चुकता होने पर क्रेडिट कार्ड से जुड़े बैंक कस्टमर से बिल पर मोटी रकम खरीदते हैं. जिससे कार्ड होल्डर कर्ज के बोझ में दबता चला जाता है. वैसे तो बैंकों की क्रेडिट कार्ड पर चार्ज वसूलने की परसेंटेज अलग-अलग होती है. लेकिन कई बैंकों में ब्याज का यह खेल कार्ड होल्डर की आर्थिक स्थिति को बिगाड़ देता है.

कई बैंकों ने तो नए साल यानी 2022 में क्रेडिट कार्ड पर जमा होने वाली लेट पेमेंट फीस में बदलाव किया है. 50 हजार रुपए तक कि बकाया राशि पर बैंक 1200 रुपए महीना तक वसूलते हैं.

SBI का चार्ज

  • SBI के क्रेडिट कार्ड पर 501-1000 तक के बिल पर 400 रुपये
  • 1,001-10,000 रुपये के लिए देर से भुगतान शुल्क 1300 रुपये
  • SBI क्रेडिट कार्ड पर नकद एडवांस शुल्क 2.5 परसेंट लगाया जाता है

HDFC क्रेडिट कार्ड 

  • 100-500 रुपए के लिए लेट पेमेंट फीस 100 रुपए
  • 501-5000 रुपए के लिए यह फीस 500 रुपए
  • 5000 से अधिक 5001-10000 तक के लिए 600 रुपए
  • 10001-25000 रुपए के लिए देरी से भुगतान शुल्क 800 रुपए
  • 25001-50000 रुपए तक के लिए 1100 रुपए
  • 50 हजार से ज्यादा बकाया होने पर लेट पेमेंट फीस 1300 रुपए

ICICI क्रेडिट कार्ड 

  • 100-500 रुपए के बीच बकाया होने पर 100 रुपए का चार्ज
  • 501-5000 रुपए तक का बिल बकाया होने पर 500 रुपए का चार्ज
  • 5001-10000 रुपए तक बकाया होने पर 750 रुपए
  • 10001-25,000 रुपए तक बकाए पर 900 रुपये
  • 25001 रुपए से 50,000 रुपए तक बकाया होने पर 1000 रुपया
  • 50,000 से ज्यादा बकाया होने पर 1200 रुपया