फैबी स्प्रे ब्राण्ड के नाम के तहत लॉन्च किए गए नाइट्रिक ऑक्साइड नेजल स्प्रे को नाक के ऊपरी वायु मार्ग में ही कोविड 19 वायरस को मारने के लिए तैयार किया गया है।

ग्लेनमार्क ने एक कनाडाई फार्मा कंपनी सैनोटाइज रिसर्च एंड डेवलपमेंट कॉर्प के साथ बुधवार को वयस्क रोगियों के इलाज के लिए भारत में फेबी स्प्रे ब्राण्ड नाम के तहत नाइट्रिक ऑक्साइड नेजल स्प्रे लॉन्च करने की घोषणा की। ये नेजल स्प्रे रोग के बढ़ने के जोखिम को कम करने में कारगर साबित हो सकता है। नेजल स्प्रे के लिए कंपनी को दवा नियामक से मैन्युफैक्चरिंग और मार्केटिंग के लिए अप्रूवल भी प्राप्त हो चुका है।

फेबी स्प्रे कैसे करेगा काम

कंपनी के अनुसार नाइट्रिक आक्साइड नेजल स्प्रे, नाक की ऊपरी सतह पर कोरोना वायरस को प्रभावी ढंग से खत्म करने का काम करता है। परीक्षण के दौरान देखा गया कि इसे कोविड-19 के खात्मे और दवा के एंटी-माइक्रोबियल गुणों को साबित किया है। स्प्रे में सार्स-सीओवी-2 पर प्रत्यक्ष विषाणुनाशक प्रभाव के साथ एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं। नाक के म्यूकोसा पर इसके  छिड़काव करने पर, यह वायरस के खिलाफ  रासायनिक बाधा के रूप में कार्य करता है, जिससे यह फेफड़ों में फैलने  से रोकता है।

ग्लेनमार्क ने स्प्रे को COVID-19 के लिए एक प्रभावी और सुरक्षित एंटीवायरल उपचार बताया है । रिपोर्ट के अनुसार ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड के अधिकारी राबर्ट क्रोकार्ट ने कहा, हमें विश्वास है कि यह रोगियों को एक बहुत आवश्यक और समय पर चिकित्सा विकल्प देने में  कारगर साबित होगा । प्रमुख अधिकारी ने कहा  फार्मास्युटिकल कंपनी के रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि हम COVID-19 महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई का एक अभिन्न अंग हैं। हम नाइट्रिक आक्साइड नेजल स्प्रे  के लिए अप्रूवल प्राप्त करके और  सैनोटाइज के साथ साझेदारी में इसे लान्च करके खुश हैं।