गोवा : महाराष्ट्र में तीन गठबंधन में बंधी सरकार का गोवा में साथ छूटने जा रहा है। ख़बर है गोवा विधानसभा चुनाव-2022 एनसीपी और शिवसेना मिलकर लड़ेंगेे चूंकि कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं हो सका।

दोनों पार्टियों एनसीपी और शिवसेना ने आज मंगलवार को गठबंधन की घोषणा कर दी है। एनसीपी ने कहा है कि, वो कांग्रेस के साथ तो नहीं पर शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी।

अपने दम पर ही लड़ेगी, कांग्रेस

गोवा विधानसभा चुनावों में कांग्रेस अकेले ही मैदान में उतरने की तैयारी कर रही है। जहां गठबंधन की पार्टियां कल अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर सकती हैं वहीं, कांग्रेस अपने दम पर चुनावों में उतरने का मन बना चुकी है। कांग्रेस का कहना है कि, सीटों पर चुनाव लड़ने वाले मुद्दे पर बात नहीं बन पाई।

वहीं एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने आज मंगलवार को शिवसेना के साथ बैठक के बाद गोवा विधानसभा चुनावों के लिए गठबंधन की घोषणा कर दी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने उनकी सीट की डिमांड को नहीं माना जिस कारण वो कांग्रेस के बिना ही मैदान में उतर रहे हैं।

प्रफुल्ल पटेल ने कहा, “कांग्रेस का मानना है कि वे अपने 17 विधायकों में से 15 विधायकों को खोने के बाद भी अपने दम पर गोवा जीत सकती है। हर दिन, गोवा में स्थिति बिगड़ रही है, और अगर हर पार्टी को लगता है कि वे अपने दम पर जीत सकते हैं, तो यह उन्हें तय करना है … हम एक जिम्मेदार पार्टी हैं। जहां हमारा महाराष्ट्र में कांग्रेस और शिवसेना के साथ गठबंधन है, वहीं गोवा में कांग्रेस के अपने विचार हैं। यदि वो अकेला गोवा में उतरना चाहती है तो वो स्वतंत्र है”

प्रफुल्ल पटेल ने आगे गठबंधन की बात को बढ़ने से इंकार किया है। हालांकि बीते कल नवाब मलिक ने कहा था, “हम कांग्रेस के साथ गोवा चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन कुछ स्थानीय नेताओं के कारण गठबंधन नहीं हो सका। कल हमारे महासचिव और एक मंत्री गठबंधन के बारे में बात करने के लिए गोवा जाएंगे।” गोवा में 14 फरवरी को एक चरण में मतदान होना है।