बिजनेस डेस्‍क। पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने घोषणा की है कि वह जल्द ही एनपीएस योजना के ग्राहकों को एक वित्तीय वर्ष के दौरान चार बार निवेश पैटर्न बदलने की अनुमति देगा। पीएफआरडीए के अध्‍यक्ष ने कहा कि निवेश की सीमा बढ़ाने की मांग बार बार की जा रही है। अभी तक, एनपीएस योजना के तहत ग्राहकों को एक वित्तीय वर्ष में दो बार निवेश पैटर्न बदलने की अनुमति है।

पिछले महीने दे दिए थे संकेत
पिछले महीने ही, पीएफआरडीए के अध्यक्ष सुप्रतिम बंद्योपाध्याय ने कहा कि कोई भी साल में दो बार निवेश ऑप्‍शन विकल्प बदल सकता है। अब, बहुत कम समय में, हम इसे चार गुना तक बढ़ाने जा रहे हैं क्योंकि अनुरोध किया जा रहा है कि निवेश पैटर्न बदलने के संख्या में इजाफा किया जाए। उन्होंने कहा कि पीएफआरडीए केवल एक चेतावनी नोट चाहता है कि पेंशन कोष बनाने के लिए यह एक दीर्घकालिक निवेश प्रोडक्‍ट है और इसे म्यूचुअल फंड योजना के समान नहीं माना जाना चाहिए।

चार बार कर बदल सकते हैं निवेश पैटर्न
पेंशन फंड नियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) के अध्यक्ष ने कहा लोग कभी-कभी इस निवेश योजना को म्यूचुअल फंड के साथ कंपेयर करते हैं, जो जो अच्छा रिटर्न दे सकता है। लेकिन एनपीएस में आपको कुछ समय देना होगा और उसके बाद, केवल आप इसका उपयोग कर सकते हैं। इसे विवेकपूर्ण तरीके से उपयोग करें, हम इसे एक वर्ष (वित्तीय वर्ष) में चार बार बढ़ाने जा रहे हैं।

यहां होता है निवेश
सब्‍सक्राइबर्स को अपने निवेश को सरकारी सेक्‍योरिटीज, डेट इंट्रूमेंट, असेट्स बैक और ट्रस्ट-संरचित निवेश, शॉर्ट टर्म डेट इंवेस्‍टमेंट और इक्विटी और संबंधित निवेश जैसे उपकरणों के मिश्रण में आवंटित करने की अनुमति है। हालांकि, ग्राहकों के अलग-अलग सेट के लिए अलग-अलग नियम हैं। उदाहरण के लिए, सरकारी क्षेत्र के कर्मचारियों का इक्विटी के प्रति अधिक जोखिम नहीं हो सकता है, जबकि कॉर्पोरेट क्षेत्र के कर्मचारियों को इक्विटी के लिए संपत्ति का 75 फीसदी तक आवंटित करने की अनुमति है।

यह हैं फंड मैनेजर्स
अलग से, सब्सक्राइबर्स को साल में एक बार अपने फंड मैनेजर बदलने की भी अनुमति है। फंड मैनेजर ग्राहकों की पेंशन परिसंपत्तियों को उनकी पसंद के अनुसार निर्धारित निवेश योजनाओं में निवेश करते हैं। वर्तमान में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल पेंशन फंड मैनेजमेंट कंपनी, एलआईसी पेंशन फंड, कोटक महिंद्रा पेंशन फंड, एसबीआई पेंशन फंड, यूटीआई रिटायरमेंट सॉल्यूशंस, एचडीएफसी पेंशन मैनेजमेंट कंपनी और बिड़ला सन लाइफ पेंशन मैनेजमेंट एनपीएस के तहत पेंशन फंड मैनेजर हैं।