एएनआई : आज विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने पाकिस्तान के आरोप का जवाब देते हुए कहा कि, पाकिस्तान ने पीओके के पूर्व राष्ट्रपति की अमेरिका में नामित राजदूत के रूप में पुष्टि करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। किसी दूसरे देश के राजदूत की नियुक्ति में देरी के लिए किसी तीसरे देश को दोष देना बेतुका है।

क्वाड विदेश मंत्रियों की आखिरी मुलाकात पर विदेश मंत्रालय ने कहा, फरवरी 2021 में हुई थी। अगली बैठक इस महीने के अंत में मेलबर्न में होने की उम्मीद है। हम जल्द ही इस पर एक अपडेट साझा करने की उम्मीद करते हैं।

चीन द्वारा गलवान सैनिक को मालवाहक बनाने की रिपोर्ट पर विदेश मंत्रालय ने कहा, “खेद है कि चीन ने ओलंपिक का राजनीतिकरण करना चुना है। बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक के उद्घाटन या समापन समारोह में भारतीय दूत शामिल नहीं होंगे।चीनी पीएलए द्वारा अरुणाचल प्रदेश के लड़के को प्रताड़ित करने पर विदेश मंत्रालय का कहना है, “भारत ने इस मुद्दे को चीनी पक्ष के साथ उठाया है।” बता दें कि,चीनी पीएलए ने 27 जनवरी को अरुणाचल प्रदेश के वाचा दमाई में अरुणाचल प्रदेश के युवा लड़के को भारतीय सेना को सौंप दिया।”

वहीं पेगासस पर न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट पर विदेश मंत्रालय ने कहा, “कथित मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित एक समिति कर रही है। इस मामले में विदेश मंत्रालय के पास कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। 2017 में प्रधान मंत्री की इज़राइल यात्रा के संबंध में, सात समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए, जिनमें से विवरण सार्वजनिक रूप से उपलब्ध हैं।

वहीं कल लोकसभा में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की ‘पाकिस्तान-चीन’ टिप्पणी पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि,”मुझे लगता है कि विदेश मंत्री के ट्वीट स्वतः स्पष्ट हैं। उन्होंने संसद में चर्चा के बाद सिलसिलेवार ट्वीट्स जारी किए थे। मेरे पास इसमें कहने के लिए कुछ नहीं है।”