स्वर्गीय लता मंगेशकर के जन्मस्थल इंदौर को अब उनके संगीत अकादमी और अन्य ऐसी ही उपलब्धियों को लिए हमेशा याद किया जाएगा। जी हां, दरअसल मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने भोपाल में स्वर कोकिला लता मंगेशकर जी को श्रद्धांजलि अर्पित की और उनकी याद में संगीत प्रेमियों के साथ वट वृक्ष लगाया। उनहोंने कहा कि लता जी के जाने से मेरे मन में ऐसी रिक्तता आई है, जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती। उन्‍होंने कहा कि लता जी केवल संगीत जगत की ही रोशनी नहीं थी, वह देशभक्ति का एक ऐसा हस्ताक्षर थीं, जिससे पूरा देश यहां तक कि बड़े.बड़े राजनेता भी प्रेरणा लेते थे। उनके जन्मदिन पर अब हर साल लता मंगेशकर पुरस्कार दिया जाएगा। दीदी हम तुम्हें न भुला पाएंगे, उनके चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि।

शिवराज ने कहा कि अपने गीत-संगीत के माध्यम से लता जी हमारे बीच बनी रहेंगी।  इंदौर में  लता मंगेशकर  का जन्म हुआ था। इसलिए हम यह निर्णय ले रहे हैं कि इंदौर में उनके नाम पर संगीत अकादमी स्थापित की जाएगी, जहां बच्चे सुरों की साधना करेंगे। वहीं, इंदौर में स्वर्गीय लता मंगेशकर जी के नाम पर संगीत अकादमी स्थापित की जाएगी। एक संग्रहालय भी बनाया जाएगा, जिसमें लता जी ने जब भी, जो भी गाया है, वह उपलब्ध रहेगा। इंदौर में ही उनकी प्रतिमा स्थापित की जाएगी और उनके जन्मदिन पर हर वर्ष लता मंगेशकर पुरस्कार दिया जाएगा।