लगातार पेट्रोल डीजल आदि के दाम इन दिनों में बढ़ रहे हैं. इस सबके बीच केंद्र सरकार ने हवाई सफर को सस्ता करने के संकेत दिए हैं, आने वाले कुछ महीनों में ‘हवाई सफर करना होगा सस्ता’.

केंद्र सरकार में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संकेत दिए हैं कि वह अगली होने वाली जीएसटी परिषद की बैठक में विमान ईंधन को जीएसटी के दायरे में लाने के लिए चर्चा करेंगी, जिसके बाद से अंदाजा लगाए जा रहे हैं, कि आने वाले समय में शायद देशवासियों को हवाई सफर करना सस्ता पड़े. सरकार ने कहा अगर हवाई ईंधन को जीएसटी के दायरे में लाते हैं तो इससे उपभोक्ताओं को काफी राहत मिलेगी. व

उपभोक्ताओं को भी उम्मीद है कि अगर विमान ईंधन जीएसटी के दायरे में आया तो उनको राहत मिलने की उम्मीद हैं| वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि वे जीएसटी परिषद की अगली बैठक में (ATF) विमान ईंधन को(GST) जीएसटी के दायरे में लाने के लिए चर्चा करेंगे.

वित्त मंत्री ने कहा कि वैश्विक स्तर पर इस समय इन दोनों की बढ़ती कीमतों को लेकर यह एक गंभीर विषय बन गया है. इससे पहले जब जीएसटी लागू हुआ था तब इन्हें जीएसटी के दायरे में लाने की सोची थी, लेकिन उसको लाया नहीं गया था. तब से केंद्र और राज्यों के दर्जन भर से अधिक कच्चा तेल , इटीएफ (ATF) ,प्राकृतिक गैस, पेट्रोल, डीजल, और सीएनजी आदि इसके दायरे से बाहर रखे गए थे. वित्त मंत्री ने कहा इसका आखिरी फैसला परिषद में चर्चा के बाद ही लिया जाएगा. सब कुछ सरकार के हाथ में नहीं हैं|

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करने के बाद एसोचेम के साथ चर्चा की. जिसमें उन्होंने कहा जीएसटी में शामिल करने के बारे में अंतिम फैसला जीएसटी परिषद में बैठक के बाद ही परिषद लेगी. उन्होंने इसके साथ यह भी कहा कि यह केवल केंद्र सरकार के हाथों में नहीं है. जिसे केंद्र सरकार लागू कर दें. इसको पहले जीएसटी परिषद की अगली बैठक में विषय के रूप में भेजा जाएगा, ताकि वहां पर इस पर चर्चा हो सके और फिर उस पर फैसला लिया जा सके.