भारत में अन्य- अन्य धर्मों को मानने वाले लोग निवास करते हैं जिसमें बौद्ध धर्म के अनुयाई भी शामिल है बौद्ध धर्म एक प्राचीन भारतीय धर्म है और आज के समय पर दुनिया के प्रमुख धर्मों में से एक है यह भारत की श्रमण परम्परा से निकला हुआ धर्म और दर्शन है आइए हम आपको बताएं कि बौद्ध धर्म की स्थापना कब हुई थी बौद्ध धर्म की स्थापना भगवान बुद्ध ने करीब 26 साल पहले की थी । बुद्ध की जन्म मृत्यु 536 ईसा पूर्व से लेकर 483 ईसा पूर्व के लगभग मानी जाती है।

बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग ज्यादातर चीन ,जापान ,कोरिया ,कंबोडिया, थाईलैंड ,नेपाल, भूटान, श्रीलंका और भारत जैसे कई देशों में निवास करते हैं हम आपको बताएंगे बौद्ध धर्म के बारे में कुछ महत्वपूर्ण और रोचक जानकारी बुद्ध की जन्म मृत्यु 536 ईशा पूर्व से लेकर 483 ईसा पूर्व के आसपास की मानी जाती है बीते समय में हुए शोध में यह पता चला है कि बुध का जन्म प्रचलित जन्म वर्ष से करीब एक सदी पहले हो गया था यानी 623 इस अपूर्व से 543 ईसा पूर्व को बुद्ध का जीवन काल माना जाता है गौतम बुद्ध की मृत्यु के बाद बुद्ध के शरीर के बचे हुए अवशेषों को आठ भागों में बांट कर उन पर 8 रूपों का निर्माण किया गया है ।

बुद्ध का असली नाम सिद्धार्थ था यह कोई व्यक्तिगत नाम नहीं है मान्यताओं के अनुसार इसका अर्थ जागृत व्यक्ति है बौद्ध धर्म में कोई एक केंद्रीय ग्रंथ भी नहीं है धर्म ग्रंथों का मेल है जिन्हें व्यक्ति अपने पूरे संपूर्ण जीवन में भी नहीं पढ़ सकता है बौद्ध धर्म का सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथ त्रिपिटक है भगवान बुध का जन्म नेपाल के लुंबिनी में वैशाख पूर्णिमा के दिन एक बाग में हुआ था। बौद्ध धर्म में अन्य धार्मिक प्रथाओं की तरह ही किसी व्यक्ति को एक निर्माता ईश्वर या देवताओं में विश्वास करने की जरूरत नहीं होती है बौद्ध धर्म तीन मलिक अवधारणाओं में विश्वास करता है जिनमें से पहली है कुछ भी स्थाई नहीं है सब कुछ बदलना संभव है सभी कार्यों के परिणाम मिलते हैं।