प्रतिभा की कोई सीमा नहीं होती और सपनों की उड़ान कोई रोक नहीं सकता। इस बात को सच कर दिखाया है नागपुर के स्वप्निल चोपकर  ने, 22 साल केे नागपुर केे  इस लड़के ने कबाड़ से F1 कार का मॉडल बनाकर सबको हैरान कर दिया है। स्वप्निल को कारों, खासकर रेसिंग कारों का बेहद शौक था। वह हमेशा से अपने लिए रेसिंग कार चाहता था इसलिए उसने अपनी कार बनाने का फैसला किया।

पैसे की कमी के कारण वह अपने लिए F1 कार नहीं खरीद पा रहे थे। लेकिन, अपने सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने खुद एक कार बनाने का फैसला किया।

स्वप्निल चोपकर की कार को मारुति 800 इंजन द्वारा संचालित किया गया है और बाकी कार में इस्तेमाल किए गए पुर्जे लगाए गए हैं। वह पिछले कुछ सालों से काफी मेहनत कर रहा था। वह ऑटोमेशन के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने के लिए एक गैरेज में अजीबोगरीब काम कर रहा था और आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई।

एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले चोपकर ने अपने परिवार के खर्चों को पूरा करने के लिए पार्ट टाइम नौकरी की। उन्होंने स्क्रैप डीलरों से मारुति 800 खरीदी और इस परियोजना पर 1.25 लाख खर्च किए। उसने यह पैसा अपने परिवार और दोस्तों से उधार लिया था और अपनी कुछ बचत का उपयोग किया , जिसे उसने अपनी शादी के लिए रखा था।

यूट्यूब ट्यूटोरियल्स की मदद से उन्होंने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया। कार के लिए कलपुर्जे चुनना एक कठिन काम था। उनके दोस्त निखिल उंबारकर और प्रणय महाजन ने उनके सपने को साकार किया और कार के पुर्जों की खरीद में मदद की।

कार में 5-लीटर का फ्यूल टैंक है और इसकी फ्यूल एफिशिएंसी 16 लीटर है। कार को भारतीय सड़कों पर  सुचारू रूप से चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। अपने सपने को पूरा करने में उन्हें एक साल से अधिक का समय लगा। वह अपने प्रयास में कई बार असफल हुए लेकिन फिर भी अपने सपने को पूरा करने की कोशिश करते रहे।