चंडीगढ़ : पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं इस कड़ी में पंजाब विधानसभा चुनाव कुछ खास होने जा रहे हैं जहां कांग्रेस अपने सीएम फेस को तय नहीं कर पाई है ऐसे में आरोप-प्रत्यारोप जवाब देते हुए आज लुधियाना में वर्चुअल रैली के दौरान पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि, “मैंने राहुल गांधी के फैसले को स्वीकार कर लिया है, मेरी राहुल जी से कोई गिला नहीं, कोई शिकवा नहीं।

सिद्धू ने शहीद स्वतंत्रता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल का उदाहरण देते हुए कहा कि जब राम प्रसाद बिस्मिल 6 महीने जेल में रहा तो उसने कहा कि ऐ मालिक तू ही तू रहे ना मैं रहूं ना कोई आरज़ू रहे । जब तक जिस्म में जान और रगों में लहू रहे तेरा ही जिक्र यार, तेरी ही जुस्तजू रहे। मेरे यार मेरे रहबर तेरे ही जुस्तजू रहे। सिद्धू ने कहा,”कि सिद्धू रहे ना रहे लेकिन सिद्धू पर भरोसा हर एक पंजाबी का कायम रहेगा। अगर मुझे निर्णय लेने की शक्ति दी गई, तो मैं माफिया को खत्म कर दूंगा, लोगों के जीवन में सुधार करूंगा। सत्ता नहीं मिली तो आप जिसे भी सीएम बनाएं, उसके साथ मुस्कुराकर साथ चलूंगा।”

वहीं पंजाब में कांग्रेस सीएम उम्मीदवार तय होने से पहले कांग्रेस नेता कुलदीप सिंह वैद ने रविवार को कहा कि पंजाब के अधिकांश लोग चाहते हैं कि चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम उम्मीदवार के रूप में घोषित किया जाए। उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अपने 111 दिनों के शासन में बहुत अच्छा किया है। इसलिए हर कोई चाहता है कि चन्नी सीएम बने।”

उधर सीएम चन्नी के रिश्तेदारों पर ईडी की छापेमारी के बाद सियासत गरमा गई है। गुरुवार देर रात मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह ‘चन्नी’ के भांजे भूपेंद्र सिंह ‘हनी’ को अवैध खनन मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है, शुक्रवार को हनी को अदालत में पेश किया गया जहां उन्हें 8 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेजा जा चुका है।