गलवान घाटी में 15 जून 2020 को चीन के सैनिकों के साथ भारतीय सैनिकों की झड़प हुई थी। जिसमें देश के 20 बहादुर शहीद हुए थे। इनमें दीपक सिंह भी शामिल थे। उनकी पत्‍नी रेखा देवी अब भारतीय सेना का हिस्‍सा बनने वाली हैं। उन्‍होंने चेन्‍नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी में शामिल होने के लिए एक सबसे कठिन परीक्षा पास कर ली है। रेखा देवी 23 साल की हैं। OTA में उनकी नौ महीने तक ट्रेनिंग होगी। इसके बाद उन्हें सेना में कमीशन दिया जाएगा। रेखा से पहले भी देश के कई और शहीद शूरवीरों की पत्‍नियों ने भारतीय सेना जॉइन की है। आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं।

भारतीय सेना का जल्द हिस्‍सा बनने वाली हैं रेखा देवी

रेखा देवी ने इलाहाबाद अब प्रयागराज में पांच दिवसीय सेवा चयन बोर्ड इंटरव्‍यू में हिस्‍सा लिया था। शुक्रवार को इसका नतीजा आया। वह उन सफल उम्‍मीदवारों की सूची में हैं जिन्‍होंने इंटरव्‍यू क्‍लीयर कर लिया है। OTA में प्री-कमीशन ट्रेनिंग के लिए उनके नाम को हरी झंडी दी गई है।UPSC ने जिन चयनित उम्मीदवारों की अंतिम मेरिट सूची जारी की है, उन्‍हें एक मेडिकल परीक्षा से गुजरना होगा। इसके बाद वो मई में ओटीए में रिपोर्ट कर सकेंगे। सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में कमीशन प्राप्त करने से पहले कैडेट्स को अकादमी में 9 महीने की ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है। रेखा सिंह ने 23 नवंबर 2021 को राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में राष्ट्रपति कोविंद से अपने पति की ओर से वीर चक्र प्राप्त किया था। शहीद होने से करीब 8 महीने पहले दीपक स‍िंंह की रेखा से शादी हुई थी। इसके बाद केवल एक बार ही पत्नी से उनकी मुलाकात हो पाई थी, जब वो होली की छुट्टियों में गांव आए थे। उन्होंने पत्नी से कश्मीरी शॉल और गहने लाने का वादा किया था। मौत से करीब कुछ दिन पहले उनकी परिवार के लोगों से फोन पर बात हुई थी। तब उन्होंने जल्दी घर आने का वादा किया था।

निकिता बनींं लेफ्टि‍नेंट

शादी की प्रथम सालगिरह बस दो महीने दूर थी जब मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल ने देश के लिए अपने प्राण न्‍योछावर कर दिए थे। वो पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों का पीछा करते हुए 20 घंटे लंबे चले ऑपरेशन में शहीद हो गए थे । खबर घर आई तो उनकी पत्‍नी निकिता कौल बिखर चुकी थीं। अगले छह महीनों में उन्‍होंने किसी तरह खुद को संभाला। वो बिखरे टुकड़े समेटे और तय किया कि मेजर विभूति की विरासत को आगे बढ़ाएंगी। भारतीय सेना में शामिल होंगी। मेजर विभूति को गए दो साल हो चुके हैं। अब निकिता कौल भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट हैं। निकिता MBA ग्रेजुएट हैं और मल्‍टीनेशनल कंपनी में काम कर चुकी हैं। उन्‍हें चेन्‍नई की ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में ट्रेनिंग मिली। वह सेना की टेक्निकल विंग में बतौर लेफ्टिनेंट काम कर रही हैं।

​कनिका राणे ने दिखाई हिम्‍मत

मेजर कौस्तुभ राणे कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए थे। तब उनकी पत्नी कनिका टूट गई थीं। 2.5 साल के बेटे अगस्त्य ने भी उनकी गोद में बैठकर शहीद पिता को आखिरी विदाई दी थी। वो मंजर रोंगटे खड़े कर देने वाला था। तब मेजर और कनिका की शादी को चार साल हुए थे। उत्तर कश्मीर के गुरेज सेक्टर में आतंकवादियों से लड़ते हुए मेजर कौस्तुभ के साथ ही तीन सिपाही मनदीप सिंह रावत, हमीर सिंह और विक्रम जीत भी शहीद हुए थे। बाद में कनिका ने हिम्‍मत दिखाई। उन्होंने पहले ही प्रयास में SSB एग्‍जाम क्‍लीयर किया था। इसके बाद चेन्‍नई स्थित ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में ट्रेनिंग ली। 2020 में कनिका को कमीशन किया गया। कमिशनिंग सेरेमनी में कनिका ने कहा था कि देश के लिए जो मेजर कौस्‍तुभ करना चाहते थे, उनका सपना वह पूरा करेंगी।
​नक्‍शे कदम पर चलीं शहीद मेजर महादिक की पत्‍नी गौरी

मेजर प्रसाद महादिक और गौरी की शादी को दो साल हुए थे, जब वह शहीद हो गए। मेजर महादिक भारतीय सेना की 7 बिहार रेजिमेंट में अधिकारी थे। भारत-चीन बॉर्डर के पास तवांग में उनकी पोस्टिंग थी, जहां 30 दिसंबर 2017 को उग्रवादियों की फायरिंग में वह शहीद हो गए थे। सुबह छह बजे उनके बैरक पर गोलीबारी शुरू हो गई थी। उनकी पत्‍नी गौरी महाद‍िक ने बाद में फैसला किया कि वह भी सेना से जुड़ेंगी। अपने पति की मौत के बाद महादिक ने कंपनी सेक्रेटरी की नौकरी छोड़ आर्मी जॉइन करने का फैसला किया। सर्विस सेलेक्‍शन बोर्ड के एग्‍जाम में बैठीं। पहली कोशिश में कामयाब नहीं हुईं मगर अगले में सीधा टॉप कर गईं। ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी से ट्रेनिंग पूरी करने के बाद गौरी ने बतौर लेफ्टिनेंट मार्च 2020 में भारतीय सेना जॉइन की। गौरी अपने पति की याद में सेना में भर्ती हुई थीं। उनकी हिम्‍मत और देशभक्ति के जज्‍बे को केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने नमन किया था। गौरी ने कहा था, ‘पति की शहादत के 10 दिनों के बाद मैं सोच रही थी कि अब क्या करूं। फिर मैंने प्रसाद के लिए कुछ करने को सोचा और सेना जॉइन करने को ही अपना लक्ष्य बना लिया।’ गौरी ने बताया था, ‘मैंने यह तय कर लिया था कि पति की ही यूनिफॉर्म और स्टार्स को पहनूंगी। यह अब हम दोनों की यूनिफॉर्म होगी।’ वह मार्च 2020 में बतौर लेफ्टिनेंट आर्मी में शामिल हुईं।