अगर आप पॉलीटेक्निक में प्रवेश पाने के लिए आवेदन करने की तैयारी कर रहे हैं तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। इसी महीने के अंतिम सप्ताह तक पॉलीटेक्निक की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। ऑनलाइन आवेदन के साथ ही प्रवेश परीक्षा भी इस बार फिर ऑनलाइन ही होगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की हुई बैठक में इसे लेकर मंथन किया गया। परिषद के प्रभारी सचिव रामरतन ने कहा कि पहले दौर की बैठक में प्रक्रिया को लेकर मंथन किया गया। अगली बैठक में प्रवेश की समय सारणी पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा। इस महीने के अंत तक प्रक्रिया शुरू हो जाएग।

इस बार राजधानी लखनऊ की दो संस्थानों समेत प्रदेश की 19 सहायता प्राप्त पॉलीटेक्निक संस्थानों की दूसरी पाली में प्रवेश नहीं होंगे। ऐसा न होने से करीब पांच हजार सीटें कम हो जाएंगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद की ओर से जून में प्रदेश में प्रवेश परीक्षा होगी। ऐसे में प्रवेश के लिए अभ्यर्थियों को ज्यादा मशक्कत करनी पड़ेगी। इस बार 1.57 लाख सीटों के सापेक्ष 10 फीसदी सीटें बढ़ेंगी। संस्थाओं में प्रवेश क्षमता के मुकाबले शिक्षकों की संख्या कम होने के बाद अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने पिछले साल नवंबर महीने में रिपोर्ट मांगी थी।

रिपोर्ट के आधार पर सहायता प्राप्त संस्थाओं की दूसरी पाली पर रोक लगा दी थी। इसके विरुद्ध संस्थानों से अपना पक्ष भी रखने को कहा गया था। संस्थान के प्रधानाचार्यों की ओर से अपना पक्ष रखा गया । जिसके आधार पर अब फैसला होना है। तकनीकी शिक्षा परिषद ने संस्थाओं के पक्ष को खारिज कर दिया है। अगस्त से शुरू होने वाले नए सत्र से दूसरी पाली में प्रवेश नहीं होंगे। प्रवेश पर रोक से करीब पांच हजार सीटें कम हो जाएंगी। प्रभारी सचिव राम रतन ने बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने प्रवेश पर रोक लगा दी है।

पालीटेक्निक पर एक नजर

सरकारी संस्थाएं -154
निजी संस्थाएं -1129
सहायता प्राप्त संस्थाएं -19
कोर्स- 60
सीटें -1,57000