यूपी विधानसभा चुनाव के सातवें चरण का मतदान खत्म होने के बाद अब नतीजों को लेकर सट्टा बाजार में तेजी आ गई है। सटोरियों की पहली पसंद बीजेपी है और दूसरे नंबर पर आंकी जा रही समाजवादी पार्टी पर दांव लगाने वालों को जीत का अधिक भाव मिल रहा है।

यानी कम रकम लगाकर अधिक मुनाफा कमाने का भाव। सटोरियों ने अपने अनुमान से अलग-अलग दलों को मिलने वाली सीटों की गुणा-गणित की है, जिस पर धड़ल्ले से लाखों-करोड़ों रुपये के दांव लग रहे हैं। सट्टा बाजार में बीजेपी का भाव भी कम नहीं है। हालांकि बीजेपी की जीत की मजबूत दावेदारी के चलते दांव लगाने वाले को उतना लाभ नहीं मिलेगा।

सूत्रों के अनुसार सातवें चरण के मतदान के बाद सटोरियों ने बीजेपी को 226 से 229 सीटें दी हैं और इसके अनुरूप बीजेपी पर दांव लगाने वालों को दस हजार रुपये के बदले 13 हजार रुपये मिलेंगे। वहीं सपा को 133 से 136 सीटें दी गईं और इसके अनुरूप समाजवादी पर दांव लगाने वालों को 3200 रुपये के बदले 10 हजार रुपये की वापसी होगी।

जिस तरह से क्रिकेट के मैच में सटोरिये दो टीमों के बीच उनकी मजबूती को देखकर दांव खिलवाते हैं, कुछ उसी अंदाज में राजनीतिक दलों की स्थिति का आकलन कर सट्टे की बिसात बिछाई गई है।

सट्टा बाजार आखिरी चरण के बाद बसपा को नौ से दस सीट व कांग्रेस को शून्य से 3 सीट दे रहा है। इन पर दांव लगाने वालों की संख्या सीमित बताई जा रही है। सटोरियों ने पांचवें चरण के चुनाव के बाद भाजपा को 193 से 197 सीटें दी थीं और समाजवादी पार्टी को 81 से 85 सीटें देकर दांव लगवाये थे।