Ekadashi Vrat ( एकादशी व्रत ) in Hinduism:

Ekadashi Vrat का हिंदू धर्म में महत्व होता है। माह में दो बार एकादशी आती है। एक कृष्ण पक्ष में और दूसरा शुक्ल पक्ष में। आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि Ekadashi Vrat रखने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है। व्यक्ति सभी पापों से मुक्त हो जाता है। इस बार योगिनी एकादशी 2 जुलाई 2024 दिन मंगलवार को मनाई जाएगी. इस वर्ष उपवास कब शुरू होगा और पारण कब समाप्त होगा? इस मुद्दे पर हमने बात की पंडित अमरनाथ द्विवेदी से…

पंडित अमरनाथ द्विवेदी बताते हैं कि योगिनी एकादशी का व्रत दशमी तिथि की रात्रि से शुरू होता है. व्रत के दौरान तामसिक भोजन का त्याग कर दिया जाता है और ब्रह्मचर्य का पालन किया जाता है। सुबह स्नान करने के बाद भगवान विष्णु की पूजा करें। व्रत के दौरान योगिनी एकादशी की कथा अवश्य सुननी चाहिए। इस दिन धन का दान करना लाभकारी होता है। बोधि वृक्ष की पूजा करें. अपने हृदय में कोई दुर्भावना या क्रोध न लाएँ। द्वादशी तिथि के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद स्वयं भोजन करें।

इस वर्ष की Ekadashi Vrat तिथियां सोमवार, 1 जुलाई, 2024 को सुबह 10:26 बजे शुरू होंगी और मंगलवार, 2 जुलाई, 2024 को सुबह 08:34 बजे तक चलेंगी। योगिनी एकादशी का व्रत उदया तिथि के अनुसार 2 जुलाई 2024 मंगलवार को रखा जाएगा और व्रत 3 जुलाई 2024 बुधवार को शुरू होगा. पारण का समय बुधवार की सुबह 05:28 से 07:10 तक है।