बिजनेस डेस्‍क। भारत में Gold Jewellery की मांग साल-दर-साल 2021 में लगभग दोगुनी हो गई है, जो पूर्व कोविड के लेवल को पार करते हुए 6 साल के हाई पहुंच गई है। साथ ही Gold Jewellery की मांग साल की चौथी तिमाही में रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गई है। वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल की ओर से जारी रिपोर्ट में यह बातें निकलकर सामने आई हैं।

डब्ल्यूजीसी ने शुक्रवार को जारी अपनी रिपोर्ट में कहा कि वैश्विक स्तर पर 2021 में Gold Jewellery Consumption में 52 फीसदी की इजाफा हुआ है, जो पिछले साल हुए नुकसान की पूरी तरह से वसूली कर रहा है। भारत और चीन विश्व स्तर पर सोने के टॉप कंज्‍यूमर्स में से हैं। भारत में Gold Consumption का लगभग 60-70 फीसदी Jewellery के रूप में होता है। भारत में, 2021 में Gold Jewellery Consumption की डिमांड 93 फीसदी बढ़कर 611 टन हो गई। देश ने 2021 की चौथी तिमाही में 265 टन सोने के आभूषणों की रिकॉर्ड तिमाही मांग भी दर्ज की।

जून के बाद से लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील और वैक्‍सीनेशन प्रोग्राम के सफल रोल आउट से मांग को बढ़ावा मिला। डब्ल्यूजीसी ने कहा कि इससे कंज्‍यूमर भावना को खासकर शहरी भारत में बढ़ावा मिला।” सामान्य मानसून वर्षा से ग्रामीण मांग को समर्थन मिला, हालांकि केरल और तमिलनाडु के दक्षिणी राज्यों में बाढ़ के कारण फसल के नुकसान ने ग्रामीण मांग को एक हद तक प्रभावित किया। इस बीच, त्योहारों और शादियों, जिन्हें देश में अधिक गंभीर दूसरी लहर के कारण वर्ष की दूसरी छमाही में धकेल दिया गया था, ने भी चौथी तिमाही में मांग बढ़ा दी।

इस तिमाही में शादियों ने आभूषणों की मांग को और बढ़ाया। Q2 के दौरान स्थगित और Q4 2021 के लिए फिर से शेड्यूल की गई शादियों की मांग में वृद्धि ने एक उत्साह प्रदान किया, जैसा कि Q4 में शुभ विवाह के दिनों की संख्या अधिक थी। शादी की अधिक खरीदारी और स्थिर कीमत के साथ, उपभोक्ताओं ने सोने के बदले सोने को प्राथमिकता दी।” वास्तव में, दिसंबर तिमाही में भारत में बढ़ी हुई मांग ने वैश्विक सोने के आभूषणों की मांग को तिमाही के दौरान 713 टन तक पहुंचाने में मदद की- जो 2013 की दूसरी तिमाही के बाद सबसे अधिक है।

इस बीच, बड़े पैमाने पर निवेश के उद्देश्य से बार और सिक्कों की मांग भारत में सालाना आधार पर 43 फीसदी बढ़कर 186.5 टन हो गई। WGC ने कहा कि वार्षिक ग्‍लोबल बार और कॉइन निवेश 31 फीसदी बढ़कर 1,180 टन हो गया, जो संयुक्त राज्य अमेरिका और जर्मनी में रिकॉर्ड उच्च मात्रा से सहायता प्राप्त है।