धर्म

Gudi Padwa 2024 कब है? गुड़ी पड़वा का शुभ मुहूर्त, अर्थ और पूजा विधि

Gudi Padwa 2024

Gudi Padwa 2024: हिन्दू पंचाग के अनुसार, चैत महीने के पहले दिन, यानी हिंदू नव वर्ष के दिन, गुड़ी पड़वा का त्योहार मनाया जाता है। महाराष्ट्र राज्य इसे बहुत धूमधाम से मनाता है। महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा को भी उगादि कहते हैं। महाराष्ट्र के लोग इस दिन को फसल के प्रतीक के रूप में मनाते हैं और भगवान ब्रह्मा और विष्णु की पूजा करते हैं। लोग इस रंगोली और फूल माला से अपने घरों को सजाते हैं और कई तरह के पकवान बनाते हैं। हम आपको बता देंगे कि साल 2024 में हिंदू नववर्ष या गुड़ी पड़वा कब होगा। गुड़ी पड़वा: शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि और कैसे मनाया जाए गुड़ी पड़वा उत्सव..।

Gudi Padwa 2024 कब हैं? (When is Gudi Padwa in 2024?)

Gudi Padwa 2024: हिन्दू नववर्ष का दिन गुड़ी पड़वा है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, हिन्दू नववर्ष 2024 (गुड़ी पड़वा) 09 अप्रैल 2024 को मंगलवार को मनाया जाएगा।

Gudi Padwa 2024 का शुभ मुहूर्त तिथि

गुड़ी पड़वा का शुभ मुहूर्त 8 अप्रैल 2024 को 11 बजकर 50 मिनट से शुरू होगा और 9 अप्रैल 2024 को 8 बजकर 30 मिनट पर समाप्त होगा।

गुड़ी पड़वा का महत्व

सृष्टि की उत्पत्ति का पर्व गुड़ी पड़वा है। हिंदू धर्म ग्रंथों में वर्णित पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन ही सृष्टि का निर्माण हुआ था, इसलिए इस दिन भगवान ब्रह्मा और विष्णु की पूजा की जाती है। यह भी कहा जाता है कि इस दिन ही मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने वली का वध कर किष्किन्धा राज्य को आतंक से छुटकारा दिलाया था। साथ ही छत्रपति शिवाजी महाराज ने गुड़ी पड़वा के दिन विदेशी घुसपैठियों को युद्ध में हराया था. इस जीत को हर साल हिन्दू नववर्ष को गुड़ी फहराकर मनाया जाता है।

Gudi Padwa 2024: गुड़ी पड़वा पूजा विधि

  • गुड़ी पड़वा के दिन सुबह जल्दी उठकर बेसन का उबटन और तेल लगाकर स्नान करें।
  • पूजास्थल को साफ करके गंगाजल डालें।
  • पूजा के साथ एक चौक और स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं
  • स्वास्तिक चिन्ह पर लकड़ी का पीड़ा लगाकर उसे सफ़ेद या लाल कपड़े से ढक दें।
  • हल्दी और कुमकुम से कपड़े को रंगें।
  • अब अष्टदल बनाकर सृष्टि के निर्माता भगवान ब्रह्मा और विष्णु को विराजित कर पूजा करें. उन दोनों को आराध्य मानकर फूल और प्रसाद चढ़ाएं।
  • फिर घर के मुख्यद्वार पर झंडा फहराकर गुड़ी बनाओ।

Phulera Dooj 2024: फुलेरा दूज के दिन ब्रज में होली शुरू होती है, जानें तारीख, शुभ मुहूर्त और महत्व

कैसे मानते हैं? गुड़ी पड़वा का त्यौहार?

  • गुड़ी पड़वा के दिन घर की सफाई करके लोग आम के पत्ते मुख्यद्वार पर बांधते हैं। इसके साथ ही घर के आँगन को रंग दें।
  • गुड़ी एक झंडा है जिसे लोग घर के मुख्य द्वार के पास फैहराते हैं।
  • लाल कपड़े से उसे एक कलश से लपेटा जाता है इसके अलावा, कलश में स्वस्तिक चिन्ह बनाया जाता है।
  • सूर्य देव के अलावा घर में ब्रम्हा और विष्णु देव भी पूजे जाते हैं। इसके अलावा, वे रामरक्षास्रोत, सुंदरकांड और देवी भगवती की पूजा-पाठ करते हैं।
  • इस दिन लोग भगवान को पूजते हैं और नीम की कोपल को गुड़ के साथ खाते हैं।

फेसबुक और ट्विटर पर हमसे जुड़ें और अपडेट प्राप्त करें:

facebook-https://www.facebook.com/newz24india

Related Articles

Back to top button
Share This
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज
9 Tourist Attractions You Shouldn’t Miss In Haridwar चेहरे पर चाहिए चांद जैसा नूर तो इस तरह लगायें आलू का फेस मास्क हर दिन खायेंगे सूरजमुखी के बीज तो मिलेंगे इतने फायदे हर दिन लिपस्टिक लगाने से शरीर में होते हैं ये बड़े नुकसान गर्मियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के साथ-साथ रहना कंफर्टेबल तो पहनें ऐसे ब्लाउज