बिजनेस डेस्‍क। वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत का सोना आयात, जिसका देश के चालू खाता घाटे (सीएडी) पर असर पड़ता है, चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-दिसंबर के दौरान दोगुने से अधिक बढ़कर 38 अरब डॉलर हो गया। अप्रैल-दिसंबर 2020 में आयात 16.78 बिलियन अमरीकी डालर था। दिसंबर 2021 में, कीमती धातु का आयात एक साल पहले की अवधि में 4.5 बिलियन अमरीकी डॉलर से बढ़कर 4.8 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया।

यह भी पढ़ें:- 10 साल पहले दो रुपए से कम था इस कंपनी का शेयर, आज बना चुका है निवेशकों को करोड़पति

गोल्‍ड इंपोर्ट में इजाफा
9 महीनों के दौरान गोल्‍ड इंपोर्ट में वृद्धि ने अप्रैल-दिसंबर 2020 में 61.38 बिलियन अमरीकी डॉलर के मुकाबले ट्रेड डेफ‍िश‍िट को बढ़ाकर 142.44 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया है। इसी तरह, चांदी का आयात भी अप्रैल-दिसंबर 2021 के दौरान बढ़कर 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया, जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 76.2 मिलियन अमेरिकी डॉलर था।

यह भी पढ़ें:- एसबीआई, एचडीएफसी और कोटक महिंद्रा बैंक ने एफडी की ब्‍याज दरों में किया इजाफा, जानिए कौन करा रहा है सबसे ज्‍यादा कमाई

रत्न और आभूषण निर्यात में इजाफा
चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गोल्‍ड कंज्‍यूमर है। आयात मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करता है। चालू वित्त वर्ष के नौ महीने के दौरान रत्न और आभूषण निर्यात 71 फीसदी बढ़कर लगभग 29 मिलियन अमरीकी डॉलर हो गया। रिजर्व बैंक के अनुसार, सितंबर तिमाही में भारत का चालू खाता 9.6 बिलियन अमरीकी डॉलर या जीडीपी के 1.3 प्रतिशत के घाटे में चला गया।