UP News: जिस बच्चे को यूपी पुलिस ने एक दिन के लिए एडीजी बनाया है, वह मूल रूप से बिहार में रहने वाला है। इलाज के लिए वह उत्तर प्रदेश गया था, जहां उसे ब्रेन ट्यूमर का ऑपरेशन करके एक दिन के लिए एडीजी बनाया गया था।

 UP News: सात साल के बच्चे को उत्तर प्रदेश पुलिस ने एडीजी बनाकर सबका दिल जीत लिया है। मामला वाराणसी क्षेत्र से है। यहां एक दिन के लिए ब्रेन कैंसर से पीड़ित एक बच्चे को एडीजी बनाया गया। विशेष रूप से, इस बच्चे के पिता दरोगा बनना चाहते हैं और इसके लिए तैयारी कर रहे हैं। वहीं, बेटे का सपना है कि वह आईपीएस अधिकारी बने। ऐसे में बच्चे को एक दिन के लिए एडीजी बनाकर उत्तर प्रदेश पुलिस प्रशंसा पा रही है।

सही इलाज के लिए आए यूपी

सुपौल जिले के प्रभात की तबीयत बिगड़ी तो उसके माता-पिता परेशान हो गए। प्रभात कुमार के पिता, रंजीत कुमार, नीजी कोचिंग चलाकर अपना घर चलाते हैं। यही कारण है कि बच्चे की हालत खराब होने पर वह कई बार चिकित्सक के पास गया, लेकिन कोई राहत नहीं मिली। बाद में उन्हें पता चला कि उनके बेटे को ब्रेन ट्यूमर है। इलाज के लिए बड़े अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन छोटे बच्चों के लिए कैंसर विभाग में पर्याप्त सुविधाएं नहीं थीं। बेहतर उपचार के लिए वह प्रयागराज गए। यही स्थान था जहां उनके बेटे का ऑपरेशन हुआ था।

 UP News: बिहार का 7 साल का लड़का यूपी में एडीजी बना, जानें पूरा मामला

जिप्सी में सवार होकर किया निरीक्षण

बीच में, एक समाजसेवी संस्था ने प्रभात को बताया कि वह ब्रेन कैंसर से पीड़ित है और आईपीएस अधिकारी बनना चाहता है। एनजीओ की कोशिशों से प्रभात एक दिन के लिए एडीजी बन गए। वाराणसी क्षेत्र के डीजी पीयूष मोर्डिया ने उन्हें कुर्सी पर बैठाया और माता-पिता के साथ फोटो भी क्लिक कराई। वह भी जिप्सी पर सवार होकर शहर की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने गए। बाद में उन्होंने कहा कि एक दिन के लिए एडीजी बनने से उन्हें एसीपी प्रद्ययुमन जैसा महसूस हो रहा है