समूचे उत्तर भारत में इस समय कड़कड़ाती ठंड पड़ रही है. जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड समेत देश के पहाड़ी राज्यों में हो रही बर्फबारी की वजह से मैदानी इलाकों में गलन बढ़ गई है. जबकि बाकि की कसर बारिश ने पूरी कर दी है. ​राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत नॉर्थ इंडिया के अधिकांश इलाकों में दो दिन से हो रही बारिश ने तापमान में गिरावट ला दी है. आलम यह है कि सर्दी की वजह से लोग अपने घरों में कैद होने को मजबूर हो गए हैं. यहां तक कि लोग सुबह और शाम की वॉक के लिए भी नहीं निकल पा रहे हैं. वहीं डॉक्टरों ने भी लोगों को सर्दी में बाहर न निकलने की सलाह दी है. खासकर दिल व ब्लड प्रेशर के मरीजों को खास अ​हतियात बरतने को कहा गया है.

Republic Day 2022: गणतंत्र दिवस से जुड़े ये खास बातें आपके लिए जानना है जरूरी

बीते 24 घंटे की अगर बात करें तो दिल्ली के लोग तापमान में भारी गिरावट के कारण सोमवार को ठंड से कांपते रहे. मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि सफदरजंग वेधशाला में अधिकतम तापमान सामान्य से 7 डिग्री कम, 14.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि दिन ठंडा तब होता है, जब किसी क्षेत्र का न्यूनतम तापमान मैदानी इलाकों के लिए 10 डिग्री सेल्सियस से कम और पहाड़ी इलाकों के लिए 0 डिग्री सेल्सियस के बराबर या उससे कम होता है.

 उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड और कोहरे का कहर, रेलवे ने रद्द कर दी 500 ट्रेनें

मौसम विभाग के अनुसार अगर अधिकतम तापमान सामान्य से 4.5 से 6.4 डिग्री सेल्सियस नीचे है तो उसको ‘कोल्ड डे’ माना जाता है. सोमवार को दिन की शुरुआत घने कोहरे के सा​थ हुई. सुबह तड़के राजधानी के कई इलाके कोहरे की सफेद चादर में लिपटे नजर आए. वहीं, कोहरे की वजह से शहर में कई स्थानों पर जाम की स्थिति बनी रही. सड़कों पर दोनों ओर वाहनों की लंबी—लंबी कतारें लगी नजर आई.