कोविड-19 के नए-नए वेरिएंट सामने आ रहे हैं। जिसके लिए सब अपनी तरफ से सावधानी भी बरत रहे हैं। लेकिन ऐसा करने से इस बात की गारंटी नहीं मिलती कि आप वायरस की चपेट में आ सकते हैं कि नहीं।

कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन ने दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। हालातों को देखते हुए लोग खुद के लिए और अपने प्रियजनों के लिए काफी डरे हुए हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, मास्क पहने रखना, नियमित रूप से हाथ धोना और लोगों से दूरी बनाए रखना कुछ ऐसे तरीके हैं, जिनसे लोग सुरक्षित रह सकते हैं। लेकिन क्या वास्तव में आपको लगता है कि इन सब प्रोटोकॉल का पालन करके आप वायरस से बच सकते हैं। इन सबके बावजदू भी आप वायरस की गिरफ्त में आ गए तो ऐसे में कोविड-19 रिकवरी पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।

डॉक्टर के बताए ट्रीटमेंट के साथ ही कुछ सिंपल योग आसन को आप अपने डेली रूटीन में शामिल करके वायरस का शिकार होने से बच सकते हैं। योग में प्रतिरक्षा बढ़ाने, फेफड़ों को मजबूत करने और तनाव को कम करने की शक्ति होती है। आइए जानें इन अभ्यासों को-

प्राणायाम और श्वास क्रिया
पहले अभ्यास में कपालभाति, अनुलोम.विलोम और भस्त्रिका तीनों के बारे में बताया गया है। यह अभ्यास करने से न केवल फेफड़ों की क्षमता में सुधार आता है, बल्कि प्रतिरक्षा बढ़ाने में बहुत प्रभावशाली हैं। ब्रीदिंग एक्सरसाइज अगर ठीक तरह से की जाए, तो फेफड़ों की क्षमता के साथ बेहतर ऑक्सीजनीकरण और कार्बन डायऑक्साइड को छोडऩे में मदद मिलती है। किसी को भी डीप ब्रीदिंग टेकनीक से फायदा पहुंच सकता है, लेकिन यह कोविड.19 रिकवरी में रामबाण की तरह है। आप इस एक्सरसाइज को सेल्फ आइसोलेशन में रहते हुए अपने डेली रूटीन का हिस्सा बना सकते हैं।

बेली ब्रीदिंग
दूसरी तकनीक है बेली ब्रीदिंग। यह एन्जाइटी को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है। कोरोनावायसरस महामारी के दौरान चिंता होनी सामान्य है। हर जगह डर और अनिश्चितता का माहौल है। ऐसे में आप ब्रीदवर्क के जरिए चिंता को दूर कर इससे निपट सकते हैं। गहरी सांस लेने से शरीर में तनाव काफी कम हो जाता है।

सांस लेने और छोड़ने की क्रिया
समा वृत्ति श्वास
तीसरी रिकवरी और इम्यूनिटी बिल्डिंग तकनीक समा वृत्ति श्वास है। सांस लेने की इस तकनीक में सांस लेने और छोड़ने के लिए एक जैसा अनुपात बनाता है।

बॉक्स ब्रीदिंग
एक बहुत ही सिंपल तकनीक है, जिसे दिमाग को शांत रहने के लिए किया जाता है। घर पर इस तकनीक का अभ्यास करने के लिए 4-5 गिनती के साथ सांस लें और 4-5 गिनती तक रोकें। इस प्रक्रिय को बार-बार दोहराएं।

स्ट्रेच के अलग-अलग पोज
इम्यूनिटी बिल्डिंग गाइड में पांच आसन और स्ट्रेच भी बताए गए हैं। ये न केवल फेफड़ों की क्षमता में सुधार करते हैं, बल्कि यह फेफड़ों को मजबूत करने और प्रतिरक्षा को बढ़ाने में सरल और प्रभावी माने गए हैं। इनमें कैट काउ पोज, बटरफ्लाई पोज, साइड स्ट्रेच और विंड रिलीज पोज शामिल हैं।

स्ट्रेस रिलीफ आसन
कोरोना महामारी एक तनावपूर्ण समय है और इसका सीधा असर हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है। ऐसे में स्ट्रेस लेवल को कम करना बेहद जरूरी हो जाता है। इसके लिए स्ट्रेस रिलीफ के लिए लो लंज पोज, सीटेड पोज, ब्रिज पोज, पपी पोज, गारलैंड पोज असौर काउ पोज का अभ्यास कर सकते हैं।

तो इस कोरोना महामारी में आप अपनी इम्यूनिटी बढ़ाना और खुद को मजबूत करना चाहते हैं तो इन सभी आसनों को अपने फिटनेस रूटीन का हिस्सा बनाएं। इससे आपको कोविड-19 से बहुत जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।