भारत में लोगों को खाना बहुत पसंद है। तीखा, खाने में घी का तड़का और खाना खाने के बाद मीठा तो जरूर होता है। इससे हमारे स्वास्थ्य पर क्या असर होता है यह हम ध्यान नहीं देते। इन आदतों से हमारे शरीर में डायबिटीज और अन्य तरह की बिमारीयों का खतरा बढ़ जाता है।

आपको बतादें कि भारत विश्व में डायबिटीक कैपिटल है। मतलब भारत विश्व में डायबिटीक मरीजों की ऋेणी में पहले पायदान पर है। डायबिटीक के प्रति जागरूकता ना होने के कारण भी इस बिमारी का बढ़ने का कारण है।

आइए आज हम यह जानते हैं कि डायबिटीज से दूर रहने के लिए हमें अपनी रोजाना की खानपान की आदतों में खाने में क्या शामिल करना चाहिए। इसके साथ ही कौन सी खाने की चीजों से परहेज करना चाहिए।

स्टार्च(carbohydrates)

हमारे शरीर को बंतइवीलकतंजमे की जरूरत होती है। पर हमें यह जानकारी होनी चाहिए कि शरीर में carbohydrate की मात्रा कितनी लेनी चाहिए। और इनका अच्छा र्सोस कौन सी खाने की चीजों में है।

ग्रेन में क्या लेना चाहिए

.होल ग्रेन जैसे कि ब्राउन राइस, ओटमील और मीलेट यानी बाजरा

.बेक्ड स्वीट पोटेटो

. वैसी चीजें जो होल ग्रेन से बनी हो जिसमे थोड़ी मिठास या चीनी ना हो।

क्या ना ले

.वाईट ब्रैड

.फ्रेंच फ्राइज

.वाईट राइस और वाईट आटा

कौन सी सब्जियों का करें सेवन

ताजी साब्जियां जो कम तेल में बनी हो ,अच्छा होगा जब हम सब्जियां कच्ची स्टीम कर के इसका सेवन करें। हरी सब्जियों में पालक, लेट्स, लौकी, उजला प्याज, गाजर और लाल शिमला मिर्च।

क्या नहीं ले

.ज्यादा मात्रा में तेल से पकी सब्जियां

.ज्यादा मात्रा में मक्खन या चीज से पकी सब्जियां

.सब्जियां जिसमें ज्यादा सोडियम की मात्रा हो

इन फलों का करें चुनाव

फल में carbohydrates, vitamins और minerals का अच्छा श्रोत है।

क्या ले

.ताजे फल

.प्लेन फ्रोजन फल बिना शक्कर के

.कम चीनी वाले जैम

क्या ना ले

.कैनड वाले फल जिसमें चीनी की मात्रा ज्यादा हो

.Friut rolls, fruit पंच और fruit drink।