उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 ( UP Assembly Election 2022 )  को लेकर सियासी पारा चढ़ा हुआ है. कांग्रेस और बीजेपी समेत सभी राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है. वहीं, नेता भी अपनी सियासी जमीन की कैलकुलेशन बैठाकर एक दल से दूसरे दल में छलांग लगा रहे हैं. इसके साथ ही पार्टियों की ओर से उम्मीदवारों के नामों की घोषणा का सिलसिला भी जारी है. इस बीच आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रशेखर आजाद ( Bhim Army Chief Chandrashekhar  ) गोरखपुर सदर ( Gorakhpur Sadar seat) से विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है. यह गोरखपुर की वह सीट है, जहां से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( CM Yogi ) चुनाव लड़ रहे हैं.

 Corona के बढ़ते केसों ने फिर बढ़ाई चिंता, 8 महीने में पहली बार 3 लाख के पार नए केस

दरअसल, इससे पहले समाजवादी पार्टी के साथ चन्द्रशेखर आजाद की पार्टी के गठबंधन की चर्चा जोरों पर थीं. लेकिन किसी कारणवश ऐसा संभव नहीं हो सका जिसको लेकर आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष ने अखिलेश के प्रति नाराजगी भी व्यक्त की थी. अब आजाद समाज पार्टी ने चंद्रशेखर आजाद को गोरखपुर सदर से चुनावी मैदान में उतारा है. इसका मतलब है कि चंद्रशेखर अब गोरखपुर सदर सीट से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनौती देंगे. हालांकि इस सीट से जीत उनके लिए थोड़ी मुश्किल मानी जा रही है. क्योंकि गोरखपुर सदर सीट पर बीते 33 साल से भाजपा का कब्जा है.

 UP Assembly Election: तो क्या अखिलेश यादव संभल के गुन्नौर से आजमाएंगे किस्मत?

इस सीट पर जातीय समीकरण की बात करें तो मौजूदा समय में गोरखपुर सदर सीट पर करीब साढ़े चार लाख मतदाता हैं. कुल मतदाताओं में लगभग ढाई पुरुष और करीब दो लाख महिलाएं शामिल हैं. इसके साथ ही इस सीट पर करीब 45000 से अधिक कायस्थ और 60 हजार ब्राह्मण मतदाता हैं.