Gayatri Jayanti (गायत्री जयंती)2024:

Gayatri Jayanti (गायत्री जयंती) का पावन पर्व हर वर्ष ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन मनाया जाता है। इसी दिन वेदों की माता गायत्री का अवतरण हुआ था। माँ गायत्री को वेद माता भी कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार चारों वेदों की उत्पत्ति माता गायत्री से हुई है। इनसे जुड़े गायत्री मंत्र में चारों वेदों का सार समाहित है। माँ गायत्री समस्त ज्ञान की देवी हैं। उनकी पूजा पवित्र त्रिमूर्ति अर्थात् ब्रह्मा, विष्णु और शंकर द्वारा भी की जाती है। तिरूपति स्थित ज्योतिषी डॉ. कृष्ण कुमार भार्गव से आपको गायत्री जयंती के बारे में कब पता चला? Gayatri Jayanti पर पूजा का समय, रवि योग का समय कब है?

गायत्री जयंती 2024 कब है

वैदिक पंचांग के अनुसार इस वर्ष ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 17 जून को प्रातः 04:43 बजे से प्रारंभ हो रही है। यह तिथि 18 जून को प्रातः 06:24 बजे समाप्त हो रही है. इसी तारतम्य में 17 जून, सोमवार को Gayatri Jayanti मनाई जाएगी।

रवि योग एवं चित्रा नक्षत्र में गायत्री जयंती

17 जून को Gayatri Jayanti के दिन रवि योग, शिव योग और चित्रा नक्षत्र है। दिन के लिए रवि योग का समय सुबह 05:23 बजे से दोपहर 01:50 बजे तक है। इसके अलावा परिघ योग का समय सुबह से शाम 09 बजकर 35 मिनट तक है। तब शिव योग प्रारंभ होगा।

Gayatri Jayanti के दिन चित्रा नक्षत्र का समय सुबह से दोपहर 01:50 बजे तक है। तभी से स्वाति नक्षत्र है।

गायत्री जयंती 2024 मुहूर्त

Gayatri Jayanti के दिन अगर आप मां गायत्री की पूजा करना चाहते हैं तो सूर्योदय के समय सूर्य देव को जल चढ़ाकर पूजा कर सकते हैं। सूर्य को अर्घ्य देने के बाद आप गायत्री मंत्र का जाप कर सकते हैं। ब्रह्म मुहूर्त का समय दिन में 04:03 बजे से 04:43 बजे तक है। सूर्योदय प्रातः 05:23 बजे है.

गायत्री जयंती के दिन अमृत-सर्वत्तम मुहूर्त का समय प्रातः 05:23 बजे से प्रातः 07:08 बजे तक है। शुभ समय सुबह 8:53 बजे से 10:37 बजे तक है.

गायत्री जयंती के दिन पाताल लोक की भद्रा

इस वर्ष गायत्री जयंती के दिन भद्रा मनाई जाएगी। भद्रा 18 जून को शाम 5:38 बजे शुरू होगी और अगले दिन सुबह 05:23 बजे तक रहेगी। यह भद्रा पाताल लोक में रहती है। इस कारण यह अशुभ नहीं होगा।

गायत्री माता कैसे प्रकट हुईं

पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब गायत्री मंत्र प्रकट हुआ तो ब्रह्मा ब्रह्मांड का निर्माण शुरू करने वाले थे। फिर उन्होंने माता गायत्री का आह्वान किया और मंत्र की व्याख्या की। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वेदों और सूत्रों सहित चार धर्मग्रंथों को गायत्री माता ने प्रकट किया था।

गायत्री मंत्र:

ॐ भूर्भुवः स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्.