जनवरी के अंत और फरवरी के शुरुआती दिनों में त्यौहार रहेंगे। तीज-त्यौहार का यह सिलसिला 28 जनवरी षटतिला एकादशी यानी आज से शुरू हो रहा है जो 2 फरवरी को माघ महीने की प्रतिपदा तक रहेगा इस दिन से गुप्त नवरात्रि की शुरुआत हो जाएगी इन 6 दिनों में 4 व्रत और दो पर्व होंगे।
षटतिला एकादशी– माघ महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी होने से षटतिला एकादशी का व्रत किया जाता है आपको बता दें इस व्रत में भगवान विष्णु की विशेष पूजा और तेल का नैवैध लगाया जाता है।

तिल द्वादशी और प्रदोष व्रत 29 जनवरी –
स्कंद और नारद पुराण के मुताबिक इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा करके फल की प्राप्ति की जाती है इस दिन तिल दान करने से अश्वमेध यज्ञ करने जितना पुण्य प्राप्त होता है इस दिन त्रयोदशी तिथि और शनिवार होने से शनि प्रदोष व्रत के साथ शिव पूजा भी की जाती है।
शिव चतुर्दशी रविवार 30 जनवरी– कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी होने से इस दिन मासिक शिवरात्रि का व्रत किया जाता है इस दिन पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से सौभाग्य और समृद्धि दोनों ही बढ़ते हैं साथी जो भी इस व्रत को करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

पितृ कर्म अमावस्या सोमवार 31 जनवरी– इस दिन दोपहर में माघ महीने की अमावस्या शुरू हो जाएगी जो कि अगले दिन तक रहेगी इसलिए इस दिन श्राद्ध तर्पण और पिंडदान करने से पितर प्रश्न होते हैं ऐसा माना जाता है कि इस दिन शिव पूजा करने से हर तरह के दोष समाप्त हो जाते हैं।
1 फरवरी मंगलवार मोनी अमावस्या– यह माघ महीने के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन होगा इस दिन इलाहाबाद संगम, गंगा, यमुना सहित अन्य पवित्र नदियों में स्नान करने का विधान ग्रंथों में बताया गया है ऐसा कहा गया है कि इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं।
गुप्त नवरात्र बुधवार 2 फरवरी– साल के चार नवरात्र में हिंदू कैलेंडर के आखिरी नवरात्र इस दिन से शुरू हो जाएंगे इन्हीं गुप्त नवरात्र कहा जाता है इन दिनों देवी दुर्गा की 10 महाविद्याओं की आराधना की जाएगी।