उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर इस समय सियासी पारा चढ़ा हुआ है. क्योंकि उत्तर प्रदेश राजनीतिक लिहाज से सबसे बड़ा राज्य है, इसलिए राजनीतिक दलों के लिए इसकी अहमियत भी सबसे ज्यादा है. यही वजह है कि भारतीय जनता पार्टी या कांग्रेस समेत कोई भी दल चुनाव में जीत के लिए कोई कसर बाकि नहीं छोड़ना चाहता. पार्टियों की ओर से धुआंधार चुनाव प्रचार किया जा रहा है. कांग्रेस की ओर से प्रियंका गांधी वाड्रा तो बीजेपी की ओर से जेपी नड्डा व सीएम योगी आदित्यनाथ समेत कई बड़े नेता जुटे हैं. इस बीच चुनावी घमासान में अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उतरने जा रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी पहली बार उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर 31 जनवरी को वर्चुअल रैली करने जा रहे हैं.

 Omicron: कोरोना की तीसरी लहर इस लिए नहीं बन सकी काल, एक्सपर्ट ने बताया कारण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल रैली के माध्यम से उत्तर प्रदेश की उन विधानसभा सीटों के मतदाताओं को संबोधित करेंगे, जहां पहले चरण के तहत 10 फरवरी को वोटिंग होना है. एक रिपोर्ट के अनुसार, पीएम मोदी कल यानी 31 जनवरी को अपनी पहली वर्चुअल रैली के गौतमबुद्ध नगर, शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत और सहारनपुर जिले की 21 विधानसभाओं के वोटर्स को संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री की वर्चुअल रैली को लेकर बीजेपी ने रविवार शाम तक सारी तैयारियां पूर्ण कर लीं. जानकारी के अनुसार बीजेपी ने लगभग 100 विभिन्न स्थानों पर एलईडी वैन और बड़ी-बड़ी स्क्रीनों के जरिए भाजपा प्रधानमंत्री के भाषण को लोगों तक पहुंचाने की व्यवस्था की है.

 Coronavirus: कोरोना के डराने वाले आंकड़े, 24 घंटे में 893 मरीजों ने तोड़ा दम

क्योंकि कोरोना वायरस और ओमिक्रॉन के प्रकोप को देखते हुए चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों को सख्ती के साथ कोरोना नियमों के पालन की बात की है. इसलिए भाजपा प्रधानमंत्री मोदी की इस वर्चुअल रैली के जरिए सीधे तौर पर 50 हजार के लगभग और वर्चुअली 10 लाख से ज्यादा मतदाताओं तक पहुंचने की व्यवस्था की है. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में पहले चरण के तहत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 11 जिलों – गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बागपत, हापुड़, गौतमबुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा और आगरा के 58 सीटों पर 10 फरवरी को मतदान होगा.