Adani Group Share Price:

Adani Group: एग्जिट पोल के बाद आज शेयर बाजार खुला और सेंसेक्स 2,000 अंक से ज्यादा की बढ़त के साथ 76,738 अंक की नई ऊंचाई पर खुला। वहीं, निफ्टी-50 में भी 600 अंकों से ज्यादा का सुधार हुआ। बैंकिंग शेयरों में भी तेजी रही और बैंक निफ्टी 1,400 अंक से अधिक चढ़ गया। शेयर बाजार के पिछले दो कारोबारी दिनों में ही Adani Group के शेयर की कीमत में 260 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है, यानी कंपनी का बाजार पूंजीकरण इतना बढ़ गया है।

हालांकि, इस बढ़त के पीछे की वजह सिर्फ मोदी सरकार बनने की संभावना नहीं है, बल्कि कंपनियों के शानदार तिमाही नतीजे भी हैं। वित्त वर्ष 2024 में Adani Group का EBITDA साल-दर-साल 40% बढ़कर 66,000 करोड़ रुपये हो गया, जिसका मुख्य कारण Adani पावर का EBITDA दोगुना होना, क्षमता विस्तार, उच्च बिक्री मात्रा, वाणिज्यिक योगदान और आयातित कोयले की कम कीमतें हैं।

सभी कंपनियां तेजी से बढ़ रही हैं:

सोमवार को लिखे जाने तक, अदानी एंटरप्राइजेज के पास 7%, अदानी एनर्जी सॉल्यूशंस के पास 8%, अदानी पोर्ट्स और एसईजेड के पास 9%, अदानी पावर के पास 12%, अदानी ग्रीन एनर्जी के पास 7% और अदानी कुल प्राकृतिक गैस का हिस्सा 7% था, 7 अदानी विल्मर थे 3.5% ऊपर, अंबुजा सीमेंट 4% ऊपर, एसीसी 3% ऊपर और एनडीटीवी 5% ऊपर था। अदानी पावर ने पिछले दो सत्रों में उछाल दिखाया है और बाजार पूंजीकरण में सबसे अधिक योगदान दिया है। इसका कुल बाजार पूंजीकरण 4,700 अरब रुपये बढ़ गया। कुल बाजार पूंजीकरण वर्तमान में 330 करोड़ रुपये से अधिक है। अडानी एंटरप्राइजेज ने भी ऐसा ही किया और अपने बाजार पूंजीकरण में 61,000 करोड़ रुपये से अधिक की वृद्धि की, जिससे कुल बाजार पूंजीकरण 400 करोड़ रुपये से अधिक हो गया।

यू उबरा शॉर्ट सेलर हिंडनबर्ग के प्रहार से:

वैश्विक ब्रोकरेज फर्म जेफरीज ने एक रिपोर्ट में कहा कि वित्त वर्ष 2023 में Adani Group इंक के बाजार पूंजीकरण पर शॉर्ट सेलर्स (हिंडेनबर्ग) का भारी प्रभाव पड़ा। वित्तीय वर्ष 2024 तक, समूह का ध्यान कर्ज कम करने और संस्थापकों के गिरवी शेयरों को छुड़ाने पर है। FY24 में ग्रुप का EBITDA साल-दर-साल 40% बढ़ा। समूह ने इक्विटी/ऋण/रणनीतिक निवेशकों से ताजा धन जुटाया है। प्रमोटरों ने समूह कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाई और इसलिए समूह का बाजार पूंजीकरण भी बढ़ गया। समूह वर्तमान में विस्तार की राह पर है।