Nephro Care India IPO: इश्यू के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर (बीआरएलएम) कॉर्पोरेट कैपिटल वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड है, जबकि बिगशेयर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड रजिस्ट्रार है।

Nephro Care India IPO: नेफ्रो केयर इंडिया लिमिटेड, एक हेल्थकेयर क्षेत्र से जुड़ी कंपनी, एक पहला सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) शुरू करने वाला है। कंपनी इस आईपीओ से 41 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही है। कंपनी ने बताया कि आईपीओ 28 जून को खुलेगा और 2 जुलाई को बंद हो जाएगा। 27 जून को बड़े एंकर निवेशक बोली लगा सकेंगे।

क्या है इश्यू प्राइस?

नेफ्रो केयर इंडिया लिमिटेड (IPO) का इश्यू प्राइस 85 से 90 रुपये प्रति शेयर है। आईपीओ में 45,84 लाख शेयरों का मूल्य 41.26 करोड़ रुपये होगा। इसके बाद एनएसई इमर्ज मंच पर कंपनी के शेयर सूचीबद्ध किए जाएंगे।

क्या होगा धन का

कंपनी कोलकाता, पश्चिम बंगाल में एक विवासिटी मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल बनाने के लिए आईपीओ से 26.17 करोड़ रुपये मिलेंगे। शेष धन को आम कॉर्पोरेट कामों में लगाया जाएगा। इश्यू के लिए बुक रनिंग लीड मैनेजर (BRLM) कॉर्पोरेट कैपिटल वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड है, जबकि बिगशेयर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड रजिस्ट्रार है।

कंपनी का लाभ

नेफ्रो केयर इंडिया लिमिटेड ने वित्त वर्ष 2022–2023 के पहले नौ महीनों में 19.90 करोड़ रुपये की कमाई की है। 2022-23 के वित्त वर्ष में कंपनी का रेवेन्यू 1.94 करोड़ रुपये था। साथ ही, 1.94 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है।

कंपनी के बारे में

नेफ्रो केयर इंडिया लिमिटेड एक मल्टीमेंशनल पेशेंट इंगेज्मेंट फ्रेमवर्क पर काम करता है। इसमें मुक्ति, होम डायलिसिस, होम केयर और डायग्नोस्टिक्स जैसे कार्यक्रम और अवसर शामिल हैं। जीवन की गुणवत्ता को सुधारने के लिए मुक्ति रोगियों को आधुनिक चिकित्सा और प्राचीन योग विद्या के संयोजन से इलाज करती है। किडली रोगियों जो डायलिसिस सेंटर पर जाने में असमर्थ हैं, घर पर सुविधाजनक डायलिसिस प्रदान करता है। दीपक पारेख भी इस कंपनी में बड़ी हिस्सेदारी है। आईपीओ के बाद प्रवर्तकों का हिस्सा 60 से 65 प्रतिशत रह जाएगा।